उन्नाव, जागरण संवाददाता। कानपुर-लखनऊ हाई-वे पर चेकिंग के दौरान अचलगंज पुलिस ने एक लावारिश हालत में खड़े एक ट्रक से 18 टन गोमांस बरामद किया है। जब कि पुलिस के हाथ एक भी तस्कर नहीं लगे। इस बीच बरामद मांस को परीक्षण के लिए प्रयोगशाला मथुरा भेजने के साथ ही पास के खाली स्थान पर गड्ढा खोदवा कर उसमें दबवा दिया गया। मामला तीन दिनों तक दबाये रहने और बरामद माल किसका है यह पता न लगा पाने के कारण पुलिस की कहानी में कहीं न कहीं खेल होने की चर्चाएं शुरू हो गई हैं।

अचलगंज पुलिस ने दर्ज की एफआइआर के अनुसार 20-21 जनवरी की रात बदरका चौकी प्रभारी संदीप मिश्र पुलिस बल के साथ हाईवे स्थित बंथर चौराहे पर वाहन चेकिंग कर रहे थे। तभी मुखबिर ने उन्हें सूचना दी कि कनोडिया पंप गहिरा के पास एक ट्रक खड़ा है, जिसमें भारी मात्रा में गोमांस लदा है। बदरका चौकी प्रभारी ने सूचना थाने पर दी। इसी के बाद थाने से सब इंस्पेक्टर इरफान अहमद भी वहां पहुंचे। इसके बाद फोर्स पेट्रोल पंप के पास पहुंचा। जहां अंधेरे में लावारिश हालत में ट्रक खड़ा मिला। उसके चालक, परिचालक सब गायब थे। पुलिस के अनुसार वाहन में बर्फ की सिल्लियों में पर्त दर पर्त गोमांस लदा था।

जिसका वजन करीब 18 टन पाया गया। इसी के बाद सीवीओ को इसकी सूचना दी गई। इसी के बाद सुपासी में तैनात पशु चिकित्साधिकारी डा. सुबोध कुमार सिंह मौके पर पहुंचे और बरामद मांस की जांच करते हुए गो मांस होने की पुष्टि की। इसके साथ ही चिकित्सक ने सीवीओ के निर्देश पर मांस का नमूना लेकर परीक्षण के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला मथुरा भेज दिया।

Edited By: Abhishek Verma