जागरण संवाददाता, कानपुर : चकेरी में चोरों ने फौजी के बंद मकान से नकदी व जेवरात समेत करीब 28 लाख रुपये का सामान उठा ले गए। सनिगवां स्थित सावित्री नगर निवासी धर्मेंद्र सिंह सेंगर और उनके बड़े भाई मनोज सेना में है। दोनों भाइयों का परिवार और मां-पिता संयुक्त रूप से रहते थे। धर्मेंद्र ने बताया कि पांच मई को उनकी मां विमला देवी की आक्सीजन लेवल कम होने के कारण मौत हो गई थी। जिसके बाद मां की तेहरवीं संस्कार के लिए पूरा परिवार पैतृक गांव औरैया स्थित अमौसा गांव गया था। शुक्रवार को पड़ोसियों ने घर के मेन गेट का ताला टूटा देखकर उन्हें जानकारी दी। मौके पर पहुंचकर उन्होंने देखा तो घर के दरवाजों समेत अलमारी के ताले टूटे थे। जिसके बाद उन्होंने पुलिस को चोरी सूचना दी। मौके पर एसीपी अनवरगंज मोहम्मद अखमल खां पहुंचे। साथ ही उन्होंने साक्ष्य एकत्रित करने के लिए फॉरेसिक टीम और डॉग स्क्वायड बुलाया। पूछताछ के दौरान उन्होंने पुलिस को बताया कि चोर में घर में रखे करीब तीन लाख रुपये नकद और करीब 25 लाख के जेवरात समेत कुल 28 लाख रुपये का सामान उठा ले गए है। थाना प्रभारी दधिबल तिवारी ने बताया कि घटनास्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे है। जल्द ही चोरों को गिरफ्तार किया जाएगा।

छेड़छाड़ के विरोध पर हुई मारपीट में बुजुर्ग की मौत

संवाद सहयोगी, बिधनू : बिधनू के एक गांव में बुधवार शाम 18 वर्षीय युवती से छेड़छाड़ के विरोध पर दो पक्षों में जमकर लाठी-डंडे चले थे। इसमें एक बुजुर्ग, युवती समेत चार लोग घायल हो गए थे। शुक्रवार सुबह एलएलआर अस्पताल में बुजुर्ग की मौत हो गई।

युवती के मुताबिक बुधवार शाम वह हैंडपंप पर पानी भरने गई थी। इसी दौरान पड़ोस के दो चचेरे भाइयों ने उसके साथ छेड़छाड़ की। स्वजन ने इसका विरोध जताया तो आरोपितों ने लाठी-डंडों से हमला कर दिया। इस दौरान युवती समेत एक बुजुर्ग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। वहीं दूसरे पक्ष के भी दो लोग घायल हो गए थे। शुक्रवार सुबह घायल बुजुर्ग की एलएलआर अस्पताल (हैलट) में उपचार के दौरान मौत हो गई। वहीं आरोपित पक्ष का कहना है कि युवती का भाई दो बोरा गेहूं ले गया था। उसके रुपये मांगे तो उन्होंने मारपीट शुरू कर दी। कार्यवाहक थाना प्रभारी शिव प्रसाद ने बताया दोनों पक्षों के बीच लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था। दोनों तरफ से मारपीट का मुकदमा दर्ज किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।