कानपुर, जेएनएन। कुछ दिनों पहले वेतन बिल घोटाला मामले में जिस श्री मुनि इंटर कालेज का नाम सबसे ज्यादा चर्चा में था, उसी कालेज की दीवार रात नौ बजे के समीप अचानक से ढह गईं। दीवार के बगल में खडी कार, बाइकें व अन्य दोपहिया वाहन तो क्षतिग्रस्त हुए ही, स्थानीय युवक को भी चोट लग गई।

मामले को लेकर क्षेत्रीय पार्षद नवीन पंडित ने विद्यालय प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, कि प्रबंधन को दीवार के जर्जर होने की जानकारी कई दिनों पहले दे दी थी, फिर भी प्रबंधन के सदस्य नहीं चेते। गोविंद नगर स्थित श्री मुनि हिंदू इंटर कालेज में प्रधानाचार्य कक्ष के पीछे की दीवार जर्जर हो चुकी थी। बुधवार रात नौ बजे अचानक दीवार भरभराकर ढह गई। इससे आसपास रहने वाले लोगों के बीच अफरा-तफरी मच गई। किसी तरह का बड़ा हादसा न हो, इसके लिए क्षेत्रीय लोगों ने फौरन केस्को सबस्टेशन व नगर निगम कंट्रोल रूम को जानकारी दी। लोगों का कहना था, कि स्कूल के प्रधानाचार्य बेहद लापरवाह हैं। उनसे जब कोई बात कहो तो वह उसे नजरअंदाज कर देते हैं। जब इस मामले पर प्रधानाचार्य से बात करने की कोशिश की गई तो उनका नंबर स्विच आफ बताता रहा।

इनका ये है कहना: 

स्कूल में प्रधानाचार्य कक्ष के पीछे की दीवार जर्जर हो गई थी। दीवार की मरम्मत को लेकर डीएम को करीब तीन माह पहले पत्र भेजा था। बुधवार को दीवार कैसे गिरी, इस विषय में फिलहाल जानकारी नहीं है। - कुंजबिहारी, प्रबंधक, श्री मुनि हिंदू इंटर कालेज

Edited By: Shaswat Gupta