कानपुर, जेएनएन। सगे भाई पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराने वाली सोनीपत (हरियाणा) निवासी असिस्टेंट प्रोफेसर की 30 वर्षीय पत्नी की संदिग्ध हालात में मौत पर पुलिस की जांच एक कदम आगे बढ़ी है। पोस्टमार्टम में महिला के शरीर पर कहीं कोई चोट नहीं मिली लेकिन पोस्टमार्टम में उसके गर्भवती और गर्भाशय क्षतिग्रस्त होने की जानकारी मिली है। गर्भाशय में आंतरिक रक्तस्राव होने से मौत की पुष्टि हुई है। महिला के पति ने चार ससुरालीजन के खिलाफ काकादेव थाने में तहरीर दी है।

असिस्टेंट प्रोफेसर से किया था प्रेम विवाह

महिला के चाचा ने बताया कि साकेत नगर निवासी भतीजी ने पांच वर्ष पहले सोनीपत के एक विश्वविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफेसर से प्रेम विवाह किया था। उसकी ससुराल पश्चिम बंगाल में है। भतीजी के प्रेम विवाह करने के बाद से परिवार के लोग खिलाफ हो गए थे और भतीजी का मायके वालों से विवाद चल रहा था। उन्होंने बताया था कि भतीजी ने कुछ समय पहले इकलौते बड़े भाई के खिलाफ सोनीपत के राई थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। मामला किदवई नगर से संबंधित होने के चलते राई थाना पुलिस ने उसे किदवई नगर थाने में ट्रांसफर कर दिया था। इसी मामले में चार दिन पहले महिला शहर आई थी। पहले वह किदवई नगर निवासी मामा के घर गई। जहां मुकदमा वापस लेने का दबाव बनने पर वह पांडु नगर निवासी चाचा के घर आ गई थी।

कोर्ट में बयान से पहले संदिग्ध हालात में मौत

किदवई नगर थाने में बयान दर्ज कराने के बाद मंगलवार को उसे कोर्ट में बयान के लिए जाना था। मंगलवार सुबह अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। जिस पर चाचा डाक्टर को घर लेकर आए थे। क्लीनिक ले जाने पर उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी। चाचा ने स्वजन और भतीजी के पति को घटना की जानकारी दी। बुधवार को हुए पोस्टमार्टम में महिला के तीन माह के गर्भवती होने और गर्भाशय क्षतिग्रस्त होने से आंतरिक रक्तस्राव होने पर उसकी मौत होने की बात सामने आई है। पेट में करीब दो लीटर खून मिला है। देर शाम करीब सात बजे पहुंचे पति ने महिला के पिता-माता, भाई व भाभी के खिलाफ हत्या करने की आशंका जताते हुए तहरीर दी है। काकादेव थाना प्रभारी कुंजबिहारी मिश्र ने बताया कि जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

वाराणसी में होगा अंतिम संस्कार : महिला के पति कार से शहर आए थे। काकादेव थाने में तहरीर देने के बाद वह पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। जहां शव सिपुर्दगी में लिया। रात में ही यहां से वाराणसी के लिए रवाना हुए। चाचा ने बताया कि वाराणसी में भतीजी का अंतिम संस्कार कर वह सोनीपत जाएंगे।

नौ साल की उम्र से कर रहा था शोषण : महिला के चाचा ने बताया कि आरोपित भतीजा तीन बहनों में इकलौता था। वह नौ साल की उम्र से भतीजी का शोषण कर रहा था। उसकी हरकतों से परेशान होकर भतीजी ने कई बार स्वजन को इसकी जानकारी दी थी, लेकिन लोकलाज के चलते परिवार वाले भतीजे पर कड़ाई और सख्ती करने के बजाय भतीजी का ही मुंह बंद कराते रहे।

बहनोई के खिलाफ दर्ज कराए थे मुकदमे : चाचा के मुताबिक भतीजे को जब दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज होने की जानकारी हुई तो उसने हैदराबाद में एक मुकदमा पत्नी से छेडख़ानी और दूसरा पांच वर्षीय बेटी से दुष्कर्म करने का मुकदमा दर्ज कराया था। इसके जरिए वह दबाव बनाना चाहता था।

Edited By: Abhishek Agnihotri