कानपुर देहात, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में केंद्र के साथ राज्य सरकार भले ही कोरोना वायरस संक्रमण की वैक्सीन नि:शुल्क लगवा रही है, लेकिन दलाल यहां भी आपदा को अवसर बना रहे हैं। मामला कानपुर देहात का है, जहां पर वैक्सीन लगवाने के नाम पर दस-दस रुपया वसूला जा रहा है। प्रकरण सामने आने पर कानपुर देहात जिला प्रशासन ने तत्काल ही प्रकरण की जांच कराने के बाद पीडि़तों को कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

कानपुर देहात जिले के एक सेंटर पर वैक्सीनेशन के नाम पर वसूली का मामला सामने आया है। यहां पर लोगों से वैक्सीनेशन के लिए दस-दस रुपये वसूले जा रहे थे। इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद मामले में तूल पकड़ लिया। कानपुर देहात में वायरल वीडियो राजपुर विकास खण्ड के रमऊ गांव का है। यहां पर ग्रामीणों ने वैक्सीनेशन के नाम पर पैसा मांगने पर जमकर हंगामा किया। इसके साथ ही ग्रामीणों ने मामले की शिकायत ग्राम प्रधान से की। ग्राम प्रधान ने वहां जाकर स्वास्थ्य कॢमयों को जमकर फटकार लगाई। इसके साथ ही ग्रामीणों से वसूले गए रुपयों को वापस कराया गया। वीडियो इंटरनेट मीडिया में वायरल होने के बाद हंगामा बढ़ गया। वीडियो वायरल होने के बाद कानपुर देहात का जिला प्रशासन हरकत में आ गया। मामले की जांच करा दोषियों को कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

राजपुर विकास खण्ड के रमऊ गांव में वैक्सीनेशन कैंप का आयोजन किया गया। ग्रामीणों को वैक्सीनेट करने के लिए स्वास्थ्य टीम रमऊ गांव में थी, लेकिन टीम ने वैक्सीनेशन के नाम पर दस-दस रुपया की वसूली शुरू कर दी। इस हरकत से ग्रामीणों में रोष व्याप्त हो गया। ग्रामीणों ने जमकर विरोध किया और शिकायत ग्राम प्रधान जमाल अहमद से की। ग्राम प्रधान ने मौके पर पहुंचने के बाद स्वास्थ्य टीम को जमकर फटकार लगाई। स्वास्थ्य टीम से ग्रामीणों को पैसे वापस कराए। इंटरनेट मीडिया पर वायरल वीडियो में साफ तौर पर ग्रामीणों को पैसे वापस करता एक व्यक्ति दिख रहा है, जिसे स्वास्थ्य टीम की महिला सदस्य उसे अपना ड्राइवर बता रही है।

वीडियो वायरल होने के बाद कानपुर देहात जिला प्रशासन हरकत में आ गया है और मामले की जांच कराकर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कानपुर देहात के स्वास्थ्य महकमे ने मामले की जांच शुरू कर दी है। मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि वैक्सीनेशन के नाम पर अवैध धन की वसूली का वीडियो वायरल होने के मामले की जांच कराई जा रही है। जांच के बाद सभी दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

Edited By: Dharmendra Pandey