कानपुर, [विक्सन सिक्रोडिय़ा]। खाना...इसके बिना भला कौन रह सकता है। हवा-पानी जितना जरूरी है, जिंदगी के लिए उतना ही खाना। बस शुद्ध और मन के मुताबिक मिल जाए यह खाना। जरा घर से दूर रहकर पढ़ाई या रोजगार करने वालों की पूछिए तो जवाब में हसरत यही कि रोज खाने में घर वाली बात हो। बस यही जरूरत व इसकी पूर्ति की सोच एक ऐसे ऑनलाइन मंच के तौर पर साकार हुई, जहां घर में स्वावलंबन का सपना देखने वाली महिलाओं को खाना अब कमाना सिखा रहा है। आइआइटी के छात्रों का बनाया यह ऑनलाइन प्लेटफार्म है 'कैंपस हाॅटÓ, जिससे जुड़कर शहर की 50 महिलाएं आज रोज 300 से 500 लोगों का पेट घर के खाने से तृप्त कर रही हैं और बदले में बेहतर आय पा रही हैं।

घर या हॉस्टल तक पहुंचा रहीं खाना

कुछ विशेष अवसर व त्योहारों पर डिलीवरी ब्वॉय अथवा रेंजर एक घर या छात्रावास में ग्राहकों को खाने के तीन से पांच पैकेट भी पहुंचाते हैं। ऐसी स्थिति में करीब एक हजार पैकेट तक पहुंचाए जाते हैं। कैंपस हाट स्टार्टअप के संस्थापक गुड्डू कुमार बताते हैं कि चूंकि यह ऑर्डर आइआइटी, नानकारी व आसपास के होते हैं, इसलिए पहुंचाने में दिक्कत नहीं होती है। सुबह, दोपहर व शाम तीन श्रेणियों में पैकेट देने का काम बांटा जाता है। पैकेट पहुंचाने के लिए आठ रेंजर हैं।

फूड एप से ऑर्डर कर सकते खाना

कैंपस हाॅट एक ऑनलाइन फूड एप है, जहां घर में बनने वाले खाने का संसार मिलता है। बस खाने वाले को पसंद का खाना आर्डर करना होता है। एप आइआइटी से कंप्यूटर साइंस से बीटेक-एमटेक, केमिस्ट्री बीएससी की डिग्री प्राप्त करने वाले अक्षत श्रीवास्तव और इंटीग्रल यूनिवर्सिटी लखनऊ से एमसीए करने वाले सागर यादव ने तैयार किया है। आइआइटी के सिडबी इनोवेशन एंड इंक्यूबेशन सेंटर में स्थापित कैंपस हाट स्टार्टअप के तहत इंजीनियरिंग और कंप्यूटर एप्लीकेशन की डिग्री प्राप्त करने वाले तीन छात्रों ने मिलकर यह एप बनाया है। एप से जुड़कर 50 महिलाएं 30 हजार से लेकर 50 हजार रुपये प्रतिमाह कमा रही हैं। पिछले वर्ष एक महिला ने अधिकतम एक लाख रुपये कमाए थे। खाने की थाली 60, 70, 80 व 90 रुपये की है, स्पेशल थाली की कीमत 120 रुपये है। गूबा गार्डन, आइआइटी, नानकारी व नारामऊ में लोगों को इसके जरिए खाना पहुंचाया जा रहा है। इस एप से सब्जी, राशन व किराना समेत रोजमर्रा की चीजें भी खरीद सकते हैं, जो बस एक घंटे में घर पहुंचा दी जाती हैं।

इनका ये है कहना

यह एप अब ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली कई महिलाओं को रोजगार मुहैया कराने के साथ स्थानीय उद्योगों को आत्मनिर्भर बना रहा है। इस माह से कंपनी ने कानपुर के बाद यह सेवा वाराणसी में शुरू कर दी है। - गुड्डू कुमार, संस्थापक कैंपस हॉट स्टार्टअप

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप