कानपुर, जेएनएन। वित्तीय वर्ष की तीन तिमाही गुजर चुकी हैं और बस एक और तिमाही ही बची है लेकिन वाणिज्य कर विभाग पिछले वित्तीय वर्ष में हुए टैक्स संग्रह के मुकाबले 22.75 फीसद पीछे चल रहा है। वित्तीय वर्ष 2019-20 की तुलना में वित्तीय वर्ष 2020-21 में अब तक कोई भी जोन टैक्स संग्रह में प्लस में नहीं आया है। हालांकि टैक्स संग्रह में अलीगढ़ की स्थिति सबसे अच्छी है। वह सिर्फ 13.66 फीसद ही पीछे रह गया है। सबसे अच्छा प्रदर्शन देखा जाए तो टॉप फाइव में अलीगढ़ के अलावा मुरादाबाद, मेरठ, झांसी, सहारनपुर हैं।

सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला गौतमबुद्ध नगर दिसंबर खत्म होने तक सबसे निचले पायदान पर था। पिछले वर्ष दिसंबर तक उसने 4,778.13 करोड़ रुपये टैक्स जुटाया था लेकिन इस वर्ष अभी तक 2,965.31 करोड़ रुपये जुट सके हैं।  

कानपुर के दोनों जोन के लिए अच्छी बात यह है कि उसका टैक्स संग्रह प्रदेश के औसत संग्रह 22.75 फीसद से अच्छा है। कानपुर जोन प्रथम ने पिछले वर्ष जहां 2,023.27 करोड़ रुपये जुटाए थे, वहीं इस वर्ष उसने 1,679.38 करोड़ रुपये टैक्स के रूप में जुटाए हैं। उसका संग्रह पिछले वर्ष के मुकाबले अभी 17 फीसद कम है। 20 जोन में उसका नौवां नंबर है। वहीं कानपुर जोन दो में पिछले वर्ष 1,299.76 करोड़ रुपये जुटाए गए थे। वहीं इस बार 1,010.07 करोड़ रुपये जुटाए हैं। पिछले वर्ष के मुकाबले उसका संग्रह 22.29 फीसद कम है। प्रदेश में उसका 14वां स्थान है।

टॉप फाइव जोन का प्रदर्शन (करोड़ रुपये में)

जोन        संग्रह 2020       संग्रह 2019

अलीगढ़      820.03          949.79

मुरादाबाद    466.93           541.10

मेरठ       979.92            1,146.54

झांसी       607.87            711.5

सहारनपुर   780.43            919.60

(नोट : ये आंकड़े अप्रैल से दिसंबर तक के हैं)

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप