हमीरपुर, [अनुराग मिश्र]। प्रेम संबंधों को शादी सुखद परिणति मिली, लेकिन लड़के के स्वजन वधू की विदाई न कराने पर अड़ गए। पंचायत के बाद भी रास्ता नहीं निकला तो वधू ने जीवनसाथी को अपने घर ले गई। अब दुल्हन पक्ष का कहना है कि ससुरालीजन जब तक बेटी को विदा नहीं कराएंगे, दूल्हा उनके घर रहेगा। यह शादी चर्चा का विषय बनी हुई है।

सदर कोतवाली क्षेत्र के सहजना-बरदहा गांव निवासी श्रीकांत की पुत्री उपासना का प्रेम प्रसंग बीते सात माह से कोतवाली क्षेत्र के बड़ागांव निवासी संदीप से चल रहा था। संदीप ने बताया कि उपासना का ननिहाल बड़ागांव में है। वहां मुलाकात के बाद जनवरी से उससे प्रेम संबंध हो गए। लड़की पक्ष के लोगों को जानकारी हुई तो उन्होंने लड़के के खिलाफ कोतवाली में शिकायत कर दी। वहीं कार्रवाई से बचने को लड़के पक्ष के लोगों ने दोनों की शादी कराने का फैसला ले लिया। लॉकडाउन के बीच शनिवार शाम मुख्यालय के चौरा देवी मंदिर में दोनों पक्ष के लोगों की उपस्थिति में दोनों का विवाह हुआ।

शादी के बाद दूल्हे के घरवालों ने बहू को विदा कराकर ले जाने से मना कर दिया। विदाई के लिए वह घर की मरम्मत आदि का तर्क देकर समय मांग रहे थे। काफी देर मान-मनौव्वल के बीच दूल्हा पक्ष राजी नहीं हुआ। इस पर दुल्हन ने दूल्हे को अपने घर में साथ रखने की बात कही। दूल्हे की सहमति पर वधू पक्ष उसे अपने साथ ले गया। कोतवाल एसपी पटेल ने कहा कि अगर दोनों पक्षों में कोई अगर शिकायत करता है तो उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Abhishek Agnihotri

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस