कानपुर, जेएनएन। शहर में बने 128 केंद्रों पर मंगलवार की सुबह यूपी बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हो गईं। पहले दिन केंद्रों पर बी कॉपियों के संकट ने परीक्षार्थियों को रुला दिया। हालांकि बाद में छात्र छात्राओं को इंटरमीडिएट की बी कॉपी देकर परीक्षा पूरी कराई गई। प्रशासनिक और शिक्षा अधिकारियों ने केंद्रों का निरीक्षण करके परीक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने भी परीक्षा केंद्रों पर जाकर व्यवस्थाएं देखीं। 

हिंदी परीक्षा में खूब लिखते हैं बच्चे

पहले दिन हिंदी की परीक्षा होने के कारण परीक्षार्थी खूब लिखते रहे। नवाबगंज स्थित डीपीएस इंटर कॉलेज परीक्षा केंद्र में दसवीं ेके 306 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। इनमें से कई छात्राओं ने कक्ष निरीक्षकों से बी कॉपी मांगी तो उन्हें नहीं मिली। इसपर कुछ छात्राएं रोने लगीं। जानकारी पर प्रधानाचार्य नंदकिशोर मिश्रा ने डीआईओएस कार्यालय में फोनकर बी कॉपी खत्म होने के बाद की स्थिति में निर्देशों के बारे पूछा। इसपर डीआईओएस कार्यालय द्वारा सभी परीक्षा केंद्रों में ऐसी स्थिति पर 12वीं की बोर्ड परीक्षा की बी कॉपी इस्तेमाल करने के निर्देश दिए गए। इस बाबत केंद्र अध्यक्षों ने पहले ही विरोध जताते हुए कहा था कि हिंदी का पेपर बड़ा होता है और परीक्षार्थी अधिक लिखते हैं।

गणित और विज्ञान जैसे प्रश्न पत्र में भी ज्यादा उत्तर पुस्तिकाओं की जरूरत होती है। केंद्रों को दी गईं बी कॉपी में काम नहीं चलेगा। गणित में परीक्षार्थी रफ कार्य करते हैं, जबकि विज्ञान में डेरीवेशन और सवालों को हल करने के लिए अधिक पेज चाहिए होते हैं। अब डीआईओएस कार्यालय ने सभी केंद्राध्यक्षों से कहा है कि 10वीं की उत्तर पुस्तिकाएं जमा करने के बाद सभी परीक्षाओं के लिए बी कॉपी दी जाएगी।

पहले दिन हुई हिंदी की परीक्षा

मंगलवार की सुबह यूपी बोर्ड परीक्षा की शुरुआत हो गयी। हाईस्कूल में पहले दिन हिंदी और प्रारंभिक हिंदी हुई, वहीं दूसरी पॉली में इंटरमीडिएट में हिंदी व सामान्य हिंदी की परीक्षा होगी। शहर में 107069 परीक्षार्थियों के लिए 128 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। यहां पर 7800 कक्ष निरीक्षकों की तैनाती की गई है।

केंद्रों को सोलह सेक्टर में बांटा गया है और तीन केंद्रों को संवेदनशील माना गया है। पांच सचल टीम केंद्रों के निरीक्षण के लिए लगाई गई हैं। जीआइसी चुन्नीगंज को मुख्य संकलन केंद्र बनाया गया है, जबकि राजकीय बालिका इंटर कॉलेज घाटमपुर और बीआरडी इंटर कॉलेज बिल्हौर उपसंकलन केंद्र बनाया गया है।

सरल आया पेपर, खिल उठे चेहरे 

ओंकारेश्वर सरस्वती विद्या निकेतन के छात्र आदित्य सक्सेना व छात्रा कशिश ने बताया कि हिंदी का पेपर पिछले वर्ष की अपेक्षा सरल रहा। पेपर हल करने में किसी तरह की दिक्कत नहीं हुई। 

सघन तलाशी के बाद मिला प्रवेश

सुबह हुई 10वीं की परीक्षा में परीक्षार्थियों को सघन तलाशी के बाद केंद्रों पर प्रवेश मिला। वहीं सीसीटीवी और रिकार्डिंग के बीच सभी ने परीक्षा दी। कुछ शिक्षकों ने बताया कि ऑनलाइन हाजिरी भेजने में सर्वर धीमा होने की दिक्कत हुई।

केंद्रों पर डीएम ने देखी परीक्षा

परीक्षा में किसी तरह की अव्यवस्था ना हो इसके लिए जिलाधिकारी डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी ने ओंकारेश्वर सरस्वती विद्या निकेतन में ऑनलाइन मॉनिटरिंग सिस्टम देखा। इसके बाद डीआईओ एस समेत अन्य सचल दल ने केंद्रों का निरीक्षण किया। कंट्रोल रूम प्रभारी दीपक शुक्ला ने बताया कि सभी परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न हुई है। ऑनलाइन मॉनीटरिंग सिस्टम पर 05122540035, 05122537193 दिए गए हैं।

आठ परीक्षा केंद्रों के व्यवस्थापक बदले गये

जिला विद्यालय निरीक्षक सतीश तिवारी ने सोमवार को 128 परीक्षा केन्द्रों में आठ केंद्र व्यवस्थापकों को बदल दिया। इसमें पांच व्यवस्थापकों को, उनका प्रबंधतंत्र के करीब होना व बाकी बचे व्यवस्थापकों को शेष तीनों केन्द्रों के संवेदनशील होने के कारण बदला गया। जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि एचपी शिक्षा निकेतन गुजैनी, वीआरआरडी इंटर कॉलेज बरुई, जेडीएस इंटर कॉलेज भैरमपुर, शत्रुघ्न बालिका इंटर कॉलेज कल्याणपुर व सरदार पटेल इंटर कॉलेज जरौली में तैनात केंद्र व्यवस्थापक प्रबंधतंत्र के करीबी थे। वहीं राजनारायण इंटर कॉलेज शंभुआ, ओएनएमटी इंटर कॉलेज मकसूदाबाद और हलीम मुस्लिम इंटर कॉलेज के संवेदनशील परीक्षा केंद्रों की सूची में होने से यहां के केन्द्र व्यवस्थापकों को बदला गया।

25 कंप्यूटरों से केंद्रों पर निगरानी

परीक्षा के दौरान केंद्रों पर नकल न हो, इसके लिए ओंकारेश्वर सरस्वती विद्या निकेतन में बने ऑनलाइन मॉनीटरिंग सिस्टम से 128 परीक्षा केंद्रों की निगरानी की जाएगी। नजर रखने के लिए यहां 25 कंप्यूटर लगाए गए हैं।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस