संवाद सूत्र, तिर्वा (कन्नौज) : चालक को झपकी आने से स्लीपर बस अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकराकर पलट गई। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर तिर्वा कोतवाली के पचोर गांव के सामने हुए हादसे में 38 यात्री घायल हो गए। इनमें पांच यात्रियों को गंभीर हालत में मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। बस 65 यात्रियों को लेकर बिहार से दिल्ली जा रही थी। हादसा शनिवार सुबह पांच बजे हुआ।

बिहार के अररिया जिले के मलासी, छपनिया निवासी 19 वर्षीय धीरज कुमार, मदनपुर के सहलागर निवासी 18 वर्षीय मुश्ब्बीर, बोबी गांव निवासी 30 वर्षीय मो. रब्बानी, जोकिरहर, साकिल परवानपुर निवासी 30 वर्षीय रोहित, दरभंगा जिला के खिदिमा, जलबाड़ा निवासी 18 वर्षीय संजीत को गंभीर चोटें आईं। यूपीडा कर्मियों ने इन घायलों को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया है। मेडिकल कालेज में अन्य घायलों की हालत में सुधार होने पर छुट्टी कर दी गई है।

कोतवाली प्रभारी नरेंद्र सिंह ने क्रेन से दुर्घटनाग्रस्त बस को एक्सप्रेस-वे के किनारे कराया और यात्रियों को दूसरी बस से दिल्ली भेजा। चालक का पता नहीं चल सका है। यात्रियों के मुताबिक आगरा को पार करने के बाद रेस्ट एरिया में बस कुछ देर तक रुकी रही। तड़के करीब 3.30 बजे चालक बस लेकर चल दिया। यूपीडा कर्मियों ने बताया कि हादसा चालक को नींद का झोंका आने के कारण हुआ है। टेंपो पर डीसीएम पलटने से किसान की मौत, जाम लगाकर हंगामा

संवाद सहयोगी, तिर्वा: आलू लादकर तिर्वा मंडी जा रहे टेंपो पर डीसीएम पलट गई। इसकी चपेट में एक बाइक सवार युवक भी आ गया और घायल हो गया। टेंपो पर सवार किसान की मौत हो गई और टेंपो चालक घायल हो गया। घायलों को मेडिकल कालेज से रेफर कर दिया गया। हादसे से नाराज स्वजन ने रोड पर जाम लगाकर हंगामा किया।

कोतवाली क्षेत्र के सीहपुर गांव निवासी 32 वर्षीय संतराम शनिवार शाम को आलू बिक्री के लिए तिर्वा मंडी जा रहे थे। आलू को गांव के ही 27 वर्षीय नूरआलम पुत्र जमील खां की टेंपो में लाद कर चिर्वा की तरफ जा रहे थे तभी तिर्वा-सुजान सराय रोड पर टेंपो जैसे ही चढ़ने लगा तो सुजान सराय की ओर से आ रही तेज रफ्तार डीसीएम ने टक्कर मार दी। इससे टेंपो खाई में पलट गया। इसके बाद डीसीएम भी टेंपो के ऊपर पलट गई। इनके बीच में तालग्राम के भवानी सराय निवासी 18 वर्षीय निहाल पुत्र रहीसुद्दीन बाइक समेत फंस गए। डीसीएम के नीचे बाइक दब गई और इनका पैर भी फंस गया। हादसे में संतराम डीसीएम के नीचे दब गए और घटना स्थल पर ही मौत हो गई। जबकि टेंपो चालक नूरआलम भी घायल हो गए। निहाल व नूरआलम को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया। वहां पर डा. अभिनेंद्र व डा. अमरेश ने प्राथमिक उपचार किया और गंभीर हालत होने से कानपुर रेफर कर दिया है। घटना को लेकर संतराम के स्वजन ने जाम लगाया और हंगामा किया। करीब तीन घंटे तक शव नहीं उठने दिया। प्रभारी निरीक्षक नरेंद्र सिंह ने स्वजन को समझाया और शव मेडिकल कालेज की मोर्चरी में रख दिया। आरोपित डीसीएम चालक व परिचालक मौके से भाग गए। प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज होगा और जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran