संवाद सहयोगी, तिर्वा: शहरी इलाकों से लेकर ग्रामीणांचल में वायरल बुखार का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा। सबसे अधिक वायरल बाढ़ ग्रसित गांव में फैल रहा। सैकड़ों मरीज इसकी चपेट में आकर बीमार हो गए। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंच रही और स्वास्थ्य केंद्र व मेडिकल कालेज के अलावा निजी अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही।

तहसील क्षेत्र के औसेर, सिमरिया, रपरा, नयापुरवा, बिहारीपुर, उमरन समेत करीब 12 गांव में पांडु नदी का पानी भर गया था। इन गांव में अब बीमारी पूरी तरह से फैल चुकी। हालात कुछ यूं है कि हर घर में एक या दो लोग वायरल से पीड़ित हैं। इसके अलावा डम्मरपुर, धर्मपुर, नगरिया, कनौली, बेलामऊ सरैया, पाला, हिम्मतपुर, मनीपुरवा, चंदियापुर, सुर्सी, भुन्ना समेत कई गांव में वायरल बुखार फैल गया। सरकारी अस्पतालों से लेकर मेडिकल कालेज में प्रतिदिन मरीजों की ओपीडी बढ़ती जा रही। अस्पतालों में 500 से 700 मरीज और मेडिकल कालेज में 1900 से 2300 तक मरीजों पहुंच रहे हैं। 70 फीसद मरीजों को वायरल बुखार है। इसका सबसे बड़ा कारण बारिश का पानी घरों के आसपास जमा होगा और जलभराव का पानी सड़ने से दुर्गध उड़ना है। इसके साथ ही बचाव के लिए पानी को उबाल कर रखें और ठंडा होने पर रोजाना चार लीटर पीते रहें। इसके अलावा हाईप्रोटीन युक्त भोजन खाएं और पेयजल पदार्थ अधिक इस्तेमाल करें। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अवधेश कुमार ने बताया कि ग्रामीणांचलों में ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाएगा। घर-घर दवाएं और इंजेक्शन आदि दिए जाएंगे।

Posted By: Jagran