संवाद सहयोगी, छिबरामऊ: बस्ती के बीच लगा जर्जर विद्युत पोल अचानक गिर गया। हालांकि तारों पर लटक जाने की वजह से लोग इसकी चपेट में आने से बच गए। आरोप है कि पोल गिरने की संभावना के चलते पहले ही अधिशासी अभियंता को प्रार्थना पत्र दिया था, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया।

शनिवार सुबह रोज की भांति लोग अपने घरों से काम के लिए निकले। बच्चे स्कूल जाने को सड़क पर निकले। इसी बीच सेवानिवृत्त प्रोफेसर डा. एसएसी दुबे के मकान के सामने गली में लगा जर्जर विद्युत पोल तेज आवाज के साथ गिर पड़ा। इससे हलचल मच गई और लोग बचने को इधर-उधर भाग खड़े हुए। आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकल गए। वहीं तारों के बीच फंसने से पोल मकान के छज्जे के पास जाकर लटक गया। हादसे की आशंका से लोग भयभीत हो गए। मामले की जानकारी तत्काल एसडीओ को दी गई। उन्होंने कर्मचारियों को मौके पर भेजा। विद्युत कर्मियों ने क्रेन मंगवाकर क्षतिग्रस्त पोल को हटवाया। शिक्षक श्वेतांक दुबे ने बताया कि यह पोल काफी समय से जर्जर था। मौखिक सूचना दिए जाने के बाद भी इसे हटाने कोई नहीं आया। बस्ती के बीएस त्रिपाठी, डा. एन¨सह सेंगर, सुरेश चंद्र राठौर आदि ने अधिशासी अभियंता को छह मार्च को एक पत्र दिया और जर्जर पोल हटवाए जाने की मांग की। उन्होंने जेई को मौके का निरीक्षण कर समस्या का निस्तारण करने के निर्देश दिए। चार दिन बीतने के बाद भी पोल नहीं हटा और आज गिर पड़ा। अधिशासी अभियंता रवींद्र कुमार ने बताया कि पोल हटाने के निर्देश दिए गए थे। जेई से इसमें होने वाले बिलंब के बारे में जानकारी की जाएगी। नगर में जहां भी क्षतिग्रस्त पोल लगे हैं, सभी की रिपोर्ट लेकर इनको बदलवाया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस