संवाद सहयोगी, तिर्वा : प्रदेश सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी धान खरीद केंद्रों पर किसानों की दिक्कतें दूर नहीं हो रही। पीसीएफ का धान खरीद केंद्र बंद चल रहा और चार दिनों से तौल बंद चल रही है।

कस्बे के मंडी समिति में पीसीएफ का धान खरीद केंद्र करीब 12 दिन पूर्व खोला गया था। डीएम राकेश कुमार मिश्रा ने शनिवार को खरीद केंद्र का निरीक्षण किया था। इसमें लापरवाही पर केंद्र प्रभारी बृजेश चंद्र को निलंबित कर दिया था। केंद्र चलाने के लिए अगौस समिति के हरनाथ सिंह को जिम्मेदारी दी गई। सोमवार को हरनाथ सिंह सड़क हादसे में चोटिल हो गए। इससे मंगलवार को एसडीएम जयकरन ने जिम्मेदारी औसेर साधन सहकारी समिति के सचिव शिवाकांत तिवारी को दी, लेकिन केंद्र पर धान की तौल शुरू नहीं की गई। केंद्र पर चार दिनों से कामकाज बंद है और किसान धान की तौल कराने के लिए परेशान है। एसडीएम ने बताया कि बुधवार से काम शुरू कर दिया जाएगा। इसमें लापरवाही होने पर कार्रवाई की जाएगी।

------------ धान तौल का तीन दिन तक इंतजार

जलालाबाद: जसोदा स्थिति एक कोल्डस्टोरेज में विपणन शाखा में धान की खरीद हो रही है। जिसमे तोल की गति धीमी होने से किसानों को तीन तीन दिन तक बैठना पड़ रहा है। मंगलवार दोपहर तक लगभग 12 ट्राली खड़ी थी। बिसन्धुआ निवासी राम किशोर ने बताया कि रविवार को दो ट्राली धान लेकर आए थे। अभी तक तौल नहीं हो पाई है। जलालाबाद निवासी छोटे ने बताया कि तीन दिन से इंतजार में बैठे हैं, अभी तक धान नहीं तौल पाया। जलालाबाद के पूर्व प्रधान कमलकांत कटियार ने कहा कि किसानों को जानबूझ कर परेशान किया जा रहा है। कुछ ही लोगों का धान लिया जाता है। वहीं विपणन शाखा प्रभारी नरेंद्र सिंह ने बताया कि केंद्र पर एक मशीन है जिससे एक दिन में चार ट्राली धान की ही तौलाई हो सकती है। जबकि आठ ट्राली प्रतिदिन धान आ रही है। कुछ किसानों का टोकन 22 दिसंबर का था, वह भी भूल बस आज ही आ गए हैं। धान का उठान भी नहीं हो पा रहा है, समस्या से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप