जागरण संवाददाता, कन्नौज: जिला अस्पताल की मॉच्र्युरी के बाहर शव डाल देने पर बेटी द्वारा अपना दुपट्टा बिछाने के मामले पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने स्वत: संज्ञान लिया है। शव के साथ संवेदनहीनता बरतने पर सचिव ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से रिपोर्ट मांगने के साथ ही डीएम को आख्या भेजकर कार्रवाई करने के लिए कहा है।

गुरुवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं न्यायाधीश सचिन कुमार दीक्षित ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि जनपद न्यायालय में जिला अस्पताल में शव के साथ संवेदनहीनता का मामला मीडिया में आने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. कृष्ण स्वरूप से विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है तथा जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र को पत्र भेजकर कार्रवाई करने के लिए कहा गया है। विदित हो कि सदर कोतवाली के जेवां गांव निवासी किसान महेशचंद्र उर्फ लल्ला की दुर्घटना में घायल हो गए थे। ग्रामीणों की मदद से बेटी जिला अस्पताल लेकर पहुंची। किसान का इलाज करने की बजाय डॉक्टरों ने उन्हें मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया था। वह उनसे उपचार करने की गुहार लगाती रही। एंबुलेंस न मिलने की वजह अस्पताल गेट पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया था। चालक ने पिता के शव को मॉच्र्युरी के बाहर डाल दिया था, इस पर बेटी ने अपना दुपट्टा बिछाकर पिता के शव को लिटाया था। इसी प्रकरण को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने संज्ञान लिया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस