जागरण संवाददाता, कन्नौज : चुनाव आयोग की तरफ से ईवीएम का रेंडमाइजेशन किया गया। पहले चरण के रेंडमाइजेशन में विधानसभा क्षेत्रवार ईवीएम का आंवटन कर दिया है। इस दौरान सभी राजनीतिक दल के लोग उपस्थित रहे, जिन्हें ईवीएम दिखाई गईं हैं।

गुरुवार को जिले में विधानसभा चुनाव के लिए ईवीएम का पहला रेंडमाइजेशन हुआ। यह प्रक्रिया आनलाइन चुनाव आयोग की तरफ से साफ्टवेयर से की गई। इस दौरान एनआइसी में जिला निर्वाचन अधिकारी राकेश कुमार, उपजिला निर्वाचन अधिकारी गजेंद्र कुमार व सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी विनीत कटियार की उपस्थिति में जिला सूचना विज्ञान अधिकारी हिमांशू शेखर ने रेंडमाइजेशन किया। इस दौरान ईवीएम को विधानसभा क्षेत्रवार कन्नौज सदर, तिर्वा व छिबरामऊ के लिए बांटा गया। अब यह मशीनें आवंटित विधानसभा क्षेत्र में जाएंगी। इसके बाद कलेक्ट्रेट स्थित वेयरहाउस में जिला निर्वाचन अधिकारी, उपजिला निर्वाचन अधिकारी व ईवीएम प्रभारी अधिशासी अभियंता सिचाई खंड पारसनाथ ने सभी राजनीतिक दलों के सामने रेंडमाइजेशन की प्रकिया की। सभी को आवंटित ईवीएम दिखाई गईं। उपजिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि कुल 1581 बूथ हैं। अब प्रत्याशी तय होने पर दूसरा रेंडमाइजेशन होगा, जिसमें मतपत्र लगाने के साथ बूथ वार ईवीएम का आवंटन किया जाएगा। 120 प्रतिशत ईवीएम रिजर्व में रहेंगी।

चुनाव में बर्नेबल व क्रिटिकल बूथ बनेंगे छावनी

संवाद सहयोगी, तिर्वा : विधानसभा चुनाव में बर्नेबल व क्रिटिकल बूथों पर संगीन के साये में मतदान कराया जाएगा। इसको लेकर जल्द की फोर्स का ठहराव नगर में हो जाएगा। फोर्स को ठहरने के लिए सीओ व कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ने स्कूलों में इंतजाम देखे हैं।

गुरुवार को सीओ दीपक दुबे व कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नरेंद्र सिंह ने कस्बे के डीएन इंटर कालेज, किसान इंटर कालेज, बहादुरपुर गांव स्थित स्वामी गिरीशानंद महाविद्यालय व राजकीय मेडिकल कालेज में निरीक्षण किया। चारों जगहों पर चुनाव में आने वाली फोर्स को रोका जाएगा। स्कूलों में बिजली व पानी के अलावा सर्दी से बचाव के इंतजाम देखे गए। साथ ही अस्थायी इज्जतघर बनाने की बात कही गई। सीओ ने बताया कि अभी तक छह कंपनी फोर्स आएगा। इसमें सीआरपीएफ, सीआइएसएफ, बीएसएफ समेत अन्य फोर्स भी हो सकती है। एक कंपनी में करीब 100 जवान होंगे। मतदान के समय फोर्स और अधिक आ जाएगा। बर्नेबल, क्रिटिकल, अति संवेदनशील प्लस व संवेदनशील बूथों को छावनी में तब्दील कर दिया जाएगा। आसपास के गांव में भी फोर्स तैनात रहेगी। अराजकता फैलाने के बारे में लोग सोच भी नहीं सकेंगे।

Edited By: Jagran