मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रशांत कुमार, कन्नौज

जिले में खाद्यान्न भंडारण की समस्या से जल्द निजात मिलेगी। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआइ) यहां निजी क्षेत्र की भागीदारी से प्रदेश का पहला साइलो स्टोरेज बनाने जा रहा है। इसका निर्माण अडानी समूह करेगा। स्टोरेज के लिए फतेहपुर जसोदा में भूमि अधिग्रहीत कर ली गई है जबकि लोडिंग-अनलोडिंग के लिए रेलवे ट्रैक बिछाने के लिए जमीन अधिग्रहण की कवायद चल रही है।

पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) के तहत बनने वाले इस साइलो स्टोरेज के लिए करीब 16 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया गया है। यहां से जेवां होते हुए जसोदा रेलवे स्टेशन तक रेल लाइन बिछेगी। छिबरामऊ एफसीआइ गोदाम डिपो के मैनेजर दीपक यादव ने बताया कि साइलो स्टोरेज का प्रस्ताव वर्ष 2014 में भेजा गया था। कन्नौज प्रदेश का पहला ऐसा जिला है, जहां एडवांस साइलो स्टोरेज बनेगा। निर्माण, फाइनेंस और संचालन निजी क्षेत्र का होगा जबकि स्वामित्व एफसीआइ का।

मात्र तीन गोदाम, सभी किराये पर

कन्नौज में एफसीआइ के छिबरामऊ, सौरिख और मानीमऊ में किराये के गोदाम हैं। छिबरामऊ और सौरिख के स्टोरेज की क्षमता नौ-नौ हजार मीट्रिक टन है। मानीमऊ की क्षमता छह हजार मीट्रिक टन है। क्या है साइलो स्टोरेज

साइलो स्टोरेज यानी बखारी, जिसमें बिना बोरी अनाज का भंडारण किया जाता है। यह स्टील का ढांचा होता है। इसमें चार बेलनाकार बड़े टैंक होते हैं। हर टैंक की क्षमता 12500 टन होती है। इनमें बिना बोरी के अनाज का भंडारण लंबे समय तक किया जा सकता है।

-----------

क्या हैं फायदे

अत्याधुनिक साइलो में रेलवे साइडिग के जरिए बड़ी मात्रा में अनाज की लोडिग/अनलोडिग की जा सकती है। भंडारण और परिवहन के दौरान अनाज का नुकसान काफी कम होता है।

---------

दो प्रकार के होते साइलो

पहला रेल कनेक्टिविटी के साथ और दूसरा रेल कनेक्टिविटी के बिना। कन्नौज का साइलो स्टोरेज रेल कनेक्टिविटी के साथ होगा। इसकी लागत करीब 60 करोड़ रुपये होगी।

----------

यह एफसीआई का बड़ा प्रोजेक्ट है। इससे न सिर्फ अनाज सुरक्षित होगा बल्कि लोगों को रोजगार भी मिलेगा। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है, जो जल्द ही पूरी हो जाएगी। इसका निर्माण जन-निजी भागीदारी से होगा। इसलिए जमीन उसी की ली जाएगी, जो स्वेच्छा से देगा।

रवींद्र कुमार, डीएम, कन्नौज

-----------------

साइलो स्टोरेज के लिए काफी समय से कवायद चल रही थी। 2014 में इसका प्रस्ताव बनाकर भेजा गया था। जो स्वीकृत हो गया।

दीपक यादव, डिपो मैनेजर।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप