संवाद सहयोगी, तिर्वा: मौसम परिवर्तन के साथ में बाढ़ ग्रसित क्षेत्रों में वायरल बुखार के मरीजों को लेकर दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर से स्वास्थ्य विभाग की नींद खुल गई। टीम ने रपरा, कनौली व औसेर में डेरा डाल दिया और करीब 400 मरीजों का परीक्षण करने के बाद दवाएं वितरण की है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अवधेश कुमार ने बताया कि रपरा में डॉ. प्रभु दयाल, फार्मासिस्ट अशोक कुमार, वार्ड ब्वाय अरुण कुमार, औसेर में डॉ. राहुल रस्तोगी, डॉ. शिखा कनौजिया, ज्ञानेंद्र, पूनम, कनौली में डॉ. सौरभ ¨सह, डॉ. मंजू गुप्ता, ज्योति शुक्ला व विपिन पाल को टीम बनाकर भेजा गया है। तीनों टीमों ने क्षेत्रों में करीब 400 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया और दवाएं वितरण की है। कुछ मरीज गंभीर होने से उनको सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ब्लड जांच कराने के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि तीनों टीमें लगातार गांव बदल-बदल कर स्वास्थ्य परीक्षण करेंगी। एएनएम, आशा बहू, आंगनबाड़ी समेत कुछ ग्रामीणों को भी सूचना देने के लिए जागरूक कर दिया गया है। बता दें कि दैनिक जागरण में सोमवार के अंक में बाढ़ग्रसित गांव में वायरल का प्रकोप, कई बीमार के शीर्षक से प्रकाशित खबर को लेकर स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली है। प्रभारी अधीक्षक ने बताया कि टीमों की दौड़ लगातार ग्रामीणांचलों में रहेगी।

हसेरन में भी फैला बुखार

इंदरगढ़ के ब्राहिमपुर नगरिया में भीषण गंदगी के कारण संक्रामक रोग फैल गए हैं। इसमें मरीजों की तादात बढ़ती जा रही। जुकाम व बुखार के कारण मरीजों की हालत गंभीर होती जा रही। हसेरन स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों की सूचना दी गई लेकिन कोई जांच करने के लिए गांव नहीं पहुंचा है।

Posted By: Jagran