बंजारा समाज को एसटी में शामिल करने की मांग

संवाद सूत्र, नादेमऊ: भाजपा के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने बंजारा समाज को अनुसूचित जनजाति यानि एसटी में शामिल करने के लिए भारत सरकार को प्रस्ताव भेजा था। तत्कालीन केंद्र सरकार की ओर से मंजूरी नहीं दी गई थी। समाज के अधिक आबादी वाले गांव को राजस्व गांव का दर्जा दिलाए जाने का ज्ञापन भी मुख्यमंत्री को सौंपा है। शनिवार को उक्त बातें नादेमऊ स्थित एक गेस्ट हाउस परिसर में बंजारा समाज की सभा के दौरान अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य ओम प्रकाश नायक ने कही।

उन्होंने बताया कि समाज के हित के लिए नौकरी से इस्तीफा देकर 1993 से कार्य कर रहे हैं। समाज को एसटी का दर्जा दिलाने व राजस्व गांव घोषित किए जाने की मांग जारी है। सांसद सुब्रत पाठक ने कहा कि उनके पूर्वज बंजारा समाज से इत्र कारोबार को लेकर जुड़े रहे हैं। उनका रिश्ता बहुत पुराना है। भाजपा ऐसे समाज को जोड़ने के लिए कार्य कर रही है। सपा ने वोट सभी वर्ग के लिए पर नौकरी एक ही समाज को दी। सपा ने 20 प्रतिशत मुस्लिम व 10 प्रतिशत यादव को ही लाभ पहुंचाए। भाजपा गरीबों को पक्के मकान बनवा कर दे रही है। गांव गांव स्कूल खुले हैं। बच्चों को पढ़ने के लिए भेजें। तिर्वा विधायक कैलाश राजपूत ने कहा कि बंजारा समाज हिंदुत्व का सच्चा हितैषी है। महापुरुषों के नाम पर विधानसभा क्षेत्र में एक स्मृति द्वार बनवाया गया। अन्य स्थानों पर भी स्मृति द्वार बनवाए जाएंगे। इससे पहले मुख्य अतिथि सांसद, विशिष्ट अतिथि तिर्वा विधायक व अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य का फूल मालाओं से स्वागत किया गया। रवि नायक ने सांसद को चांदी का मुकुट पहनाया। कार्यक्रम का संचालन शैलेंद्र कुमार ने किया। वहीं सांसद का स्वागत सौरिख कट पर करने के बाद तिरंगा यात्रा निकाली गई। इस दौरान जिला महामंत्री शैलेंद्र द्विवेदी, कार्यक्रम संयोजक रवि नायक, सह संयोजक दिनेश नायक, मंगल सिंह व वीरेंद्र नायक मौजूद रहे।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट