संवाद सहयोगी, तिर्वा : शराब बंदी के दिन शराब की बिक्री पर पुलिस ने ठेका देसी शराब की दुकान में छापा मारा। यहां से काफी मात्रा में मिलावटी शराब बरामद हुई। पुलिस ने माल जब्त कर दुकान सील कर दी। साथ ही ठेकेदार समेत छह पर मुकदमा दर्ज कर चार को पकड़कर जेल भेजा दिया।

गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे तिर्वागंज स्थित देसी शराब की दुकान पर चुपके से शराब बेची जा रही थी। कोतवाली प्रभारी टीपी वर्मा ने ठेका के पास भीड़ देखी तो छापा मारा। यहां शराब बिक्री होते मिली। उन्होंने इसकी जानकारी जिलाधिकारी रविद्र कुमार, पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद, उपजिलाधिकारी महेंद्र कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी सुबोध कुमार जायसवाल को दी। इसके बाद आबकारी निरीक्षक त्रिभुवन प्रसाद वर्मा पहुंचे। जांच में पता चला कि शराब मिलावटी है। दुकान से 12 नकली क्यूआर कोड के स्टीकर, 19 ढक्कन, 35 खाली शीशी बरामद हुई। इसके अलावा मौके से 47 हजार, 280 रुपया की नकदी गोलक में मिली। दुकान का स्टॉक 1158 पेटी कमरे में मिली। दुकान को खाली कर सारा माल कोतवाली में सील कर रख दिया गया। आबकारी निरीक्षक त्रिभुवन प्रसाद वर्मा ने मुकदमा दर्ज कराया। इसमें नामजद ठठिया के कड़ेरा निवासी धर्मेद्र कुमार, गांधी नगर के शिशुपाल सिंह, मंडी बाजार के गुड्डू बाथम, तिर्वागंज के कौशल को जेल भेज दिया गया। ठेकेदार शिवेंद्र सिंह चौहान व कड़ेरा निवासी सुधीर फरार हैं। लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई

क्षेत्राधिकारी सुबोध कुमार जायसवाल ने बताया कि एक अप्रैल से लाइसेंस का नवीनीकरण होना था, लेकिन इस कार्रवाई से नहीं होगा। इसके लिए उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी गई। उन्होंने बताया कि जमानत धनराशि को भी जब्त किया जाएगा। करीब 30 लाख का माल था स्टॉक

दुकान के अंदर 1158 देसी शराब की पेटियां बरामद हुई। इसकी कीमत करीब 30 लाख बताई गई। कोतवाली प्रभारी ने बताया कि स्टॉक रजिस्टर मौके पर नहीं मिली। इससे कोई मिलान नहीं हो सका। शराब अवैध तरीके से स्टॉक थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस