अमरोहा। नरभक्षी बाघिन गांव चक छावी के जंगल में देखी गई। पास के गांव रामनगर में उसने दो नीलगाय को अपना निवाला बना लिया। सूचना मिलने पर हड़कंप मच गया। डीएम-एसपी वन विभाग की टीम के दोनों गांवों का दौरा कर ग्रामीणों से पूछताछ की। क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है।

बीते एक सप्ताह से दहशत का पर्याय बनी नरभक्षी बाघिन को पकड़ने के अभी तक के सारे प्रयास बेनतीजा साबित हो रहे हैं। सोमवार के बाद मंगलवार को भी वन विभाग की टीम कैलसा क्षेत्र में बाघिन को तलाश करने में जुटी थी। लेकिन देहात थाना क्षेत्र के गांव चक छावी में मंगलवार को बाघिन देखी गई। यहां रहने वाले किसान हरज्ञान सिंह का नौकर अरुण कुमार मंगलवार सुबह लगभग सात बजे खेत पर गन्ना छीलने गया था। जैसे ही वह खेत पर पहुंचा तो उसे ईख में आहट सुनाई दी। वह थोड़े फासले पर पेड़ की ओट लेकर खड़ा हो गया। उसने देखा कि ईख के खेत से निकलकर बाघिन पास में स्थित राजपाल सिंह के गेहूं के खेत से होकर जंगल में चली गई। बाघिन को देख कर अरुण कुमार के होश उड़े गए तथा वह किसी तरह गांव पहुंचा।

उसने हरज्ञान सिंह व अन्य ग्रामीणों को बाघिन देखने के बारे में बताया तो गांव में भी खलबली मच गई। थोड़ी ही देर में ग्रामीण धारदार हथियार लेकर जंगल में पहुंच गए तथा बाघिन की तलाश शुरू कर दी। बाघिन देखे जाने की सूचना मिलते ही डीएम भवनाथ, एसपी एसएस बघेल व डीएफओ महेंद्र प्रताप सिंह मय फोर्स के एक्सपर्ट को लेकर गांव के जंगल में पहुंच गए। अभी यह टीम जंगल में ही थी तथा तलाश जारी थी, दोपहर लगभग एक बजे के करीब पास के गांव रामनगर के ग्रामीणों ने चंद्रपाल सिंह के खेत में दो नीलगाय के शव देखे। थोड़े फासले से पड़े यह शव किसी जानवर द्वारा खाए गए थे। रामनगर से सूचना मिलते ही टीम वहां भी पहुंची तथा एक्सपर्ट ने वहां पंजों का निरीक्षण किया। बाद में दोनों गांवों के जंगल में बाघिन की तलाश शुरू कर दी गई है। वन विभाग की टीम एक्सपर्ट के साथ जंगल में डेरा डाले हुए है। क्षेत्र के लोगों को सावधान रहने व अकेले जंगल न जाने की हिदायत दी गई है। बाघिन की आमद से क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। उधर मंगलवार को कैलसा क्षेत्र में भी बाघिन की तलाश जारी रही।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर