झाँसी : इलाइट चौराहा के पास तिब्बती मार्केट के बाहर सड़क किनारे अस्थाई दुकान लगाने वालो और एक सिपाही मे उस समय विवाद हो गया, जब सिपाही ने दुकान का सामान फेक दिया। दोनो पक्षो में विवाद होने पर सिपाही ने थाने को सूचना दी, जिस पर फोर्स पहुँच गया और कुछ दुकानदारो को पकड़ लिया। दुकानदारो का आरोप था सिपाही उनसे रुपए माँग रहा था, तो सिपाही का कहना था कि ये यहाँ अवैध रूप से दुकान लगाते है और उसके आवास के पास लघुशंका का समाधान करते है।

इलाइट से गोविन्द चौराहा जाने वाली सड़क पर पुलिस और दुकानदार के बीच मे विवाद होता देख वहाँ भीड़ लग गयी। हो-हल्ला होने पर तिब्बती मार्केट के लोग भी बाहर निकल आए। दुकानदारो का आरोप था कि एक सिपाही आया और दुकानदारो से रुपए माँगने लगा। एक दुकानदार की आज बोनी तक नही हुयी थी, जिसके कारण उसने रुपए देने से इन्कार कर दिया। इस पर सिपाही ने गाली-गलौज करते हुए उसकी दुकान के काउण्टर को फेक दिया। दुकानदार के भतीजो ने गाली देने से मना किया, तो सिपाही ने मारपीट कर दी। एक भतीजा सिपाही से उलझ गया। इसकी सूचना सिपाही ने थाना पुलिस को दी, तो पुलिस फोर्स पहुँच गया और पुलिस कुछ आरोपियो को पकड़कर थाने ले आयी। उधर, एक घायल ने आरोप लगाया कि उसकी रीढ़ की हड्डी मे पहले से ही चोट थी और पुलिस की पिटाई से वह घायल हो गया। घायल को देखकर दुकानदारो मे आक्रोश फैल गया और उनके परिजन सड़क पर उतर आए। मामला गम्भीर होने पर सीओ (सिटि) जितेन्द्र कुमार परिहार पहुँचे और दुकानदारो को समझाया। इधर, नवाबाद पुलिस ने बताया कि एक तो दुकानदार सड़क पर अतिक्रमण कर स्थिति बिगाड़ते है और पीछे जहाँ सिपाही का आवास है, वहाँ वे लघुशंका का समाधान करते है। आज कुछ ने लघुशंका किया, तो सिपाही ने उनको यहाँ ऐसा करने से मना किया, जिस पर विवाद हो गया। आरोपियो के विरुद्ध शान्ति भंग की कार्यवाही की जा रही है।

हमसफर बनकर चले अपने घरौदे की ओर

झाँसी : परिवारिक जीवन मे खुशियाँ आती है, तो दुश्वारियाँ भी आती है। और कई बार दुश्र्वारियाँ ऐसे मुकाम पर पहुँचा देती है, जिससे परिवार बिछड़ने लगते है। अधिकतर दुश्वारियो का कारण गलत-फहमी होती है। ऐसे मे परिवार परामर्श केन्द्र अपनी अहम भूमिका अदा करता है। आज भी परामर्श केन्द्र मे कई मामले पहुँचे, जिसमे से कुछ शिकवे-गिले भुलाकर अपने घरो की तरफ चल पड़े।

माह के पहले और तीसरे रविवार को महिला थाना मे परिवार परामर्श केन्द्र का आयोजन किया जाता है। इसमे उन मामलो की सुनवाई की जाती है, जिसमे पति-पत्नी मे किसी बात को लेकर विवाद हो जाता है। आज परामर्श केन्द्र मे 18 दम्पति को बुलाया गया था। महिला थानाध्यक्ष अर्चना सिंह, डॉ. नीति शास्त्री, उप निरीक्षक निखलेश कुमारी, सिपाही किरण दुबे ने सुनवाई करते हुए 5 परिवारो का आमना-सामना कराया और उनके बीच की गलत-फहमी को दूर कर दिया। अन्य जो आए थे, उनमे से एक पीडि़ता अपने पति और ससुरालीजनो पर मु़कदमा दर्ज कराने की बात पर अड़ी रही। यहाँ एक ऐसी महिला भी आई, जिसने कोतवाली मे मु़कदमा दर्ज कराने के साथ ही परिवार परामर्श केन्द्र के लिए भी प्रार्थना-पत्र दे रखा था। इन सभी को अगली तारीख दे दी गयी।

शस्त्र चलाने का परीक्षण 11 को

झाँसी : प्राइवेट शस्त्र आवेदको की फायरिंग व परीक्षण 11 जनवरी को रेलवे सुरक्षा बल फायरिंग बट गरिया डैम ग्राम अठोदना मे होगा। जिन आवेदको की पत्रावलियाँ पुलिस कार्यालय आ चुकी है, वह फायरिंग तिथि के एक दिन पहले 10 जनवरी को शस्त्र लाइसेन्स, आधार कार्ड व प्रमाणित जन्मतिथि से सम्बन्धित अभिलेख एवं नवीनतम रंगीन पासपोर्ट साइ़ज की एक फोटो सहित पुलिस लाइन शस्त्रागार मे सुबह 10 बजे आकर विवरण अंकित करा ले, ताकि उनका शस्त्र परीक्षण कराया जा सके।