झाँसी : सूबे के उपमुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य गुरुवार को जिस सड़क की आधारशिला रखेगे, वह पिछड़े क्षेत्र मे शुमार गरौठा व गुरसराँय के लिए विकास के रास्ते खोल देगी। हाइवे बनने से वाहन फर्राटा भर सकेगे, तो गरौठा से हमीरपुर व झाँसी मुख्यालय का स़फर काफी छोटा हो जाएगा। हालाँकि अभी प्रथम चरण का ही काम शुरू होने जा रहा है, जो 2 साल मे पूरा होगा।

जनपद के छोर पर बसे गरौठा व गुरसराँय ब्लॉक अब भी विकास की राह ताक रहे है। मुख्यालय से दूरी और आवागमन का उचित प्रबन्ध न होने के कारण इन दोनो ब्लॉक से जुड़े डेढ़ सैकड़ा गाँवो की हालत भी बहुत ज्यादा अच्छी नही है। इन दोनो ब्लॉक को मुख्यालय से जोड़ने के लिए वैसे तो 4 मार्ग है, लेकिन सबसे छोटा मार्ग चिरगाँव, रामनगर, बघैरा, गुरसराँय होते हुए है, लेकिन इसकी हालत काफी जर्जर है। महज साढ़े तीन से 7 मीटर तक चौड़े इस मार्ग पर इतने गड्ढे है कि वाहन चलाना तक मुश्किल होता है। उधर, गरौठा के लोगो को हमीरपुर जाने के लिए अभी मऊरानीपुर होकर जाना पड़ता है, जिसकी हालत भी खस्ताहाल है। इस मार्ग की दशा सुधारने के लिए वर्ष 2015 मे प्रोजेक्ट बनाया गया, जिसमे हमीरपुर से चिरगाँव तक 2 लेन सड़क बनाने का निर्णय लिया गया। ़करीब 716 करोड़ से अधिक के इस प्रोजेक्ट के लिए विश्व बैक से धनराशि की माँग की गई, लेकिन रोड़ा अटक गया। सूबे की सलाा परिवर्तन के बाद गरौठा विधायक जवाहर लाल राजपूत ने इस मार्ग को स्वीकृति दिलाने के प्रयास तेज किए, जिसमे सफलता मिल गई। सहायक अभियन्ता राकेश बाबू गुप्ता ने बताया कि हमीरपुर से चिरगाँव तक 10 मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण कराया जाना है। लगभग 716 करोड़ रुपए के इस प्रोजेक्ट पर तीन चरण मे काम कराया जाएगा। प्रथम चरण मे चिरगाँव से गरौठा तक 49.145 किलोमीटर की सड़क बनाई जाएगी, जिसकी लागत 227.14 करोड़ रुपए है। दूसरे चरण मे हमीरपुर से राठ के बीच सड़क बनेगी, जिसके लिए टेण्डर प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है, जबकि तीसरे चरण मे राठ और गरौठा के बीच सड़क का निर्माण होगा। उपमुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य आज गरौठा से चिरगाँव तक सड़क का शिलान्यास करेगे, जिसके बाद काम प्रारम्भ हो जाएगा।

गरौठा से मुख्यालय जोड़ने के रास्ते

गरौठा से चिरगाँव तक हाइवे बनने के बाद यहाँ का यातायात काफी सुगम हो जाएगा। अभी गरौठा के लोग मुख्यालय (महानगर) आने के लिए इस मार्ग का प्रयोग तो करते है, लेकिन खस्ताहालत होने के कारण काफी समय लगता है। इसके अलावा टहरौली, धमना, बरुआसागर तथा मऊरानीपुर होकर झाँसी व पूँछ होकर झाँसी का मार्ग भी है, लेकिन इससे लोगो को 30 से 40 किलोमीटर अतिरिक्त स़फर करना पड़ता है। उधर, हमीरपुर जाने के लिए गरौठा के लोगो को अभी मऊरानीपुर का रास्ता लेना पड़ता है, लेकिन अब सीधा मार्ग बनने से यह स़फर भी छोटा हो जाएगा।

इन्होने कहा

'भाजपा सरकार मे विश्व बैक से एक ही प्रोजेक्ट स्वीकृत हुआ है, जिसमे हमीरपुर-चिरगाँव मार्ग शामिल है। इस सड़क के बनने से गरौठा, गुरसराँय मे विकास के रास्ते खुल जाएंगे। गरौठा से राठ जाने के लिए अभी बस से 4 घण्टे लगते है, लेकिन सड़क बनने के बाद यही स़फर डेढ़ घण्टे मे पूरा होगा। झाँसी मुख्यालय आने के लिए भी लोगो को लम्बा चक्कर नही लगाना पड़ेगा।'

0 जवाहर लाल राजपूत, विधायक गरौठा