- अकेले नवम्बर माह में पकड़े गए 62 ह़जार से अधिक बिना टिकिट यात्री

- इससे पहले 2018 में पकड़े गए थे 62 ह़जार से अधिक बिना टिकिट यात्री

झाँसी : लोग समझते हैं कि वह बिना टिकिट लिए ही ट्रेन में यात्रा कर बचकर निकल जाएंगे। हालाँकि ऐसा होता भी है कि लोग टीटीई को चकमा देकर निकल भी जाते हैं। लेकिन मण्डल के विभिन्न स्टेशन से एक माह में ह़जारो की संख्या में ऐसे यात्रियों को पकड़ा गया है जो यह सोचकर ट्रेन में चढ़ गए थे कि उन्हें कोई नहीं पकड़ पाएगा। हैरानी की बात यह भी है कि जब ट्रेन में वेटिंग टिकिट के साथ यात्रा करने की अनुमति नहीं है तो इन लोगों ने ट्रेन में बिना टिकिट चढ़ने की हिम्मत कैसे जुटा ली? मण्डल ने इन लोगों से करोड़ों में जुर्माना वसूला है। इनके अलावा कई लोग ऐसे भी पकड़े गए जो स्टेशन परिसर में गन्दगी फैला रहे थे।

मण्डल रेल प्रबन्धक आशुतोष के निर्देशन में वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबन्धक (द्वितीय) अखिल शुक्ला के नेतृत्व में यात्रा नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध अभियान चलाया जा रहा है। इसमें पिछले माह (नवम्बर) मण्डल ने अभियान चलाते हुए बिना टिकिट यात्रा करने वाले, स्टेशन परिसर और ट्रेन में गन्दगी फैलाने वाले, मास्क न पहनने वाले और धुम्रपान करने वाले यात्रियों को पकड़ कर उनसे जुर्माना वसूला। जानकर हैरानी होगी कि केवल एक माह में मण्डल के विभिन्न स्टेशन और ट्रेन के अन्दर 62, 671 लोगों को पकड़ा गया जो बिना टिकिट ट्रेन में यात्रा कर रहे थे, या करने जा रहे थे। इन सभी से वाणिज्य विभाग ने 3 करोड़ 98 लाख रुपये का जुर्माना वसूला है। वहीं, विभिन्न नियम का उल्लंघन करने वाले 418 यात्रियों से लगभग 54 ह़जार रुपये वसूला गया। बता दें कि झाँसी मण्डल से पकड़े गए बिना टिकिट यात्री और राजस्व अर्जन में यह रिकॉर्ड प्रदर्शन है। इससे पहले मई 2018 में मण्डल के विभिन्न स्टेशन से 62, 253 बिना टिकट यात्रियों से 3 करोड़ 97 लाख रुपये का जुर्माना वसूला गया था। मण्डल के इस राजस्व अर्जन में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए उप मुख्य टिकट निरीक्षक नन्द किशोर ने सबसे अधिक 11.50 लाख रुपये वसूल कर प्रथम, उप मुख्य टिकट निरीक्षक जीतेन्द्र वर्मा ने 9.36 लाख रुपये अर्जित कर दूसरा स्थान हासिल किया। वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबन्धक नवीन दीक्षित ने बताया कि मण्डल के विभिन्न रेलवे स्टेशन व अनारक्षित ट्रेन में नियमित रूप से सघन टिकट चेकिंग कराई जाएगी, जिससे कि बिना टिकट यात्रा करने वालों पर अंकुश लगाया जा सके।

पकड़े गए यात्रियों ने रेलवे पर भी लगा दिया प्रश्नचिह्न

वर्तमान में संचालित हो रही ट्रेन में उन्हीं यात्रियों को चढ़ने की अनुमति है, जिनके वैध और कन्फर्म यात्रा टिकिट हैं। बिना टिकिट यात्रा तो दूर की बात, रेलवे ने फिलहाल वेटिंग टिकिट यात्रियों के भी ट्रेन में चढ़ने में पाबन्दी लगा रखी है। बावजूद इसके एक माह में इतनी बड़ी संख्या में बिना टिकिट यात्रियों का ट्रेन में मिलना प्रवेश द्वार पर होने वाली टिकिट जाँच पर सवाल खड़े कर रहा है।

फाइल : वसीम शेख

समय : 07 : 45

5 दिसम्बर 2021

Edited By: Jagran