फोटो : 4 एसएचवाई 7

झाँसी : अमर ज्योति विजय मशाल यात्रा को सलामी देते सैन्य अधिकारी।

:::

फोटो : 4 एसएचवाई 8

मशाल ज्योति के साथ सैन्य अधिकारी, सैनिक व उनके परिजन।

:::

0 व्हाइट टाइगर डिवि़जन व बबीना सैन्य क्षेत्र समेत शैक्षणिक संस्थान व अन्य स्थानों पर शहीदों को दी पुष्पांजलि

0 1971 युद्ध के शहीद के पैतृक गाँव की पवित्र रज विजय मशाल यात्रा को सौंपी

झाँसी : भारतीय सशस्त्र बलों की 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर निर्णायक व स्वर्णिम विजय के स्वर्ण जयन्ती वर्ष पर नई दिल्ली से निकली मशाल यात्रा पाँच दिन के भ्रमण के बाद आगे के लिए रवाना हो गयी। अमर ज्योति विजय मशाल यात्रा का सैन्य व नागरिक क्षेत्रों में भव्य स्वागत किया कर शहीदों को याद किया गया। एक साल तक चलने वाले स्वर्णिम विजय वर्ष समारोह का 16 दिसम्बर को दिल्ली में समापन होगा।

नई दिल्ली के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक से प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने देश के चार दिशाओं में अनन्त लौ प्रज्ज्वलित कर मशाल यात्रा को रवाना किया था। पश्चिमी दिशा अमर ज्योति विजय मशाल यात्रा देश के विभिन्न हिस्सों में भ्रमण के बाद 28 नवम्बर को झाँसी पहुँची। इस यात्रा का पूरे सैन्य सम्मान के साथ स्वागत किया गया। इस दौरान सैना के साथ ही आम नागरिकों ने कार्यक्रम आयोजित कर शहीदों को याद किया गया। देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले वीरों को श्रद्धाजलि देने के लिए व्हाइट टाइगर डिवि़जन युद्ध स्मारक पर पुष्पाजलि समारोह आयोजित किया गया। इसमें झाँसी सैन्य स्टेशन के सैनिकों, पूर्व सैनिकों और एनसीसी कैडिट ने हिस्सा लिया। इस दौरान 1971 के युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए गा‌र्ड्समैन राजेन्द्र प्रसाद शुक्ला के पैतृक गाँव से एकत्र की गयी पुण्य मिट्टंी को विजय ज्वाला टीम को सौंप दिया गया। इसके पहले विजय ज्वाला का स्वागत करते हुए व्हाइट टाइगर डिवि़जन के जनरल ऑफिसर कमाण्डिंग (जीओसी) मेजर जनरल डीजी मिश्रा ने शहीदों के बलिदान को याद करते हुए युवाओं को उनसे प्रेरणा लेने और अधिक से अधिक गौरव हासिल करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने का आह्वान किया। विजय मशाल यात्रा ने झाँसी किला व मेजर ध्यानचन्द स्टेडियम के साथ ही विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों का भ्रमण किया। विजय मशाल यात्रा का बबीना स्टेशन में भी भव्य स्वागत किया गया। यात्रा का नेतृत्व कैप्टन लालरैम डीका कर रहे हैं।

शीतकालीन अवकाश में प्रशिक्षण का शिक्षकों ने किया विरोध

झाँसी : बेसिक शिक्षा विभाग में इस वर्ष 31 दिसम्बर से 14 जनवरी तक शीतकालीन अवकाश रहेगा। इस बीच, राज्य परियोजना निदेशक ने 13 दिसम्बर से 31 जनवरी तक शिक्षकों को फाउण्डेशन लिटरेसी एवं न्यूमरेसी प्रशिक्षण कराने के निर्देश दिए हैं। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने बीएसए को ज्ञापन देकर शीतकालीन सत्र में प्रशिक्षण कराने का विरोध किया है। ़िजलाध्यक्ष जितेन्द्र दीक्षित ने कहा कि शीतकालीन अवकाश में शिक्षकों का प्रशिक्षण कराना ठीक नहीं है। इस दौरान चौधरी धर्मेन्द्र सिंह, मृत्युंजय सिंह, देवेश शर्मा, शिवकुमार पाराशर, प्रवक्ता अब्दुल नोमान, उमेश बबेले, मो. अफजल महानगर अध्यक्ष, पुष्पेन्द्र कुशवाहा, चरण सिंह पटेल आदि उपस्थित रहे।

फाइल-रघुवीर शर्मा

समय-6.00

4 दिसम्बर 21

Edited By: Jagran