जागरण संवाददाता, जौनपुर : जिला अस्पताल में कार्यरत महिला कर्मचारी से कहासुनी के बाद क्षुब्ध पति ने सोमवार को दोपहर उसकी आंखों के सामने शाही पुल से गोमती नदी में छलांग लगा दी। कूदने जा रही पत्नी को प्रत्यक्षदर्शियों ने तुरंत पकड़कर बचा लिया। लापता हुए युवक का पुलिस गोताखोरों को लगाकर घंटों तलाश कराती रही, लेकिन उसका पता नहीं चल सका।

पड़ोसी जिले आजमगढ़ के पवईं थाना क्षेत्र के कोहड़ा गांव की सविता राजभर महिला जिला अस्पताल में कार्यरत हैं। उनका पति दिलीप राजभर पुत्र भारत राजभर पत्नी के साथ ही अस्पताल परिसर में रहता था। दोपहर में किसी बात को लेकर दोनों में कहासुनी हो गई। दिलीप राजभर पत्नी को बाइक पर बैठाकर करीब तीन बजे भीड़भाड़ वाले शाही पुल पर पहुंचा। बाइक खड़ी कर उसने पत्नी की आंखों के सामने गोमती नदी में छलांग लगा दी।

इसके बाद सविता भी नदी में कूदने के लिए रेलिग पर पहुंची तो प्रत्यक्षदर्शियों ने उसे पकड़ कर बचा लिया। देखते ही देखते दिलीप नदी के तेज धारा में ओझल हो गया। खबर लगते ही कोतवाली प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार सिंह व सरायपोख्ता पुलिस चौकी प्रभारी विक्रम लक्ष्मण सिंह पुलिस बल के साथ पहुंच गए। गोताखोरों को लगाकर पुलिस ने घंटों तलाश कराई, लेकिन युवक का पता नहीं चल सका।

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक ने कहा कि रास्ते के पड़ने वाले थानों को घटना की जानकारी देकर सतर्क कर दिया गया है। एहतियात के तौर पर सविता को कोतवाली में बैठाया गया है। उसके स्वजन को भी सूचना दे दी गई है।

Edited By: Jagran