सतीश सिंह, जौनपुर: डकैतों और माफिया का नाम सुनते ही बड़े बड़े पुलिस दस्ते की तबीयत खराब हो जाती है, पर यहां महिलाओं ने जो साहस दिखाया उसे सुनकर लोग दांतों तले अंगुली दबा लेते हैं। जफराबाद थाना क्षेत्र के गोंडा खास गांव में एकांत में आबादी से दूर रहने वाले छोटे लाल प्रजापति का घर, जिसको डकैतों ने 23 अगस्त सन 2012 में निशाना बनाया और डकैती को अंजाम देने के लिए रात को करीब 2:00 बजे घर के पीछे से छत पर चढ़कर सीढ़ी के रास्ते से आंगन में प्रवेश कर गए। असलहा से लैश नकाबपोश डकैतों ने घर के सभी सदस्यों को बंधक बनाकर लूटना चाहा। महिलाएं आंगन में सो रही थी। डकैत आंगन में प्रवेश करने के बाद घर के मुख्य दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया ताकि आसानी से महिलाओं को बंधक बनाकर घर में डकैती को अंजाम दिया जा सके। उन डकैतों को यह नहीं पता था जिस घर में उन्होंने डकैती को अंजाम देने के लिए प्रवेश किया है, वह घर मरदानियों का घर था। डकैतों ने असलहा लगाकर महिलाओं को बंधक बनाने की कोशिश की कि महिलाएं तथा बच्चियों ने उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। जिसमें छोटे लाल प्रजापति की पत्नी नगीना देवी को डकैतों ने पेट में चाकू घुसेड़ दिया। छोटे लाल की भयोहू रेखा देवी और पुत्री गुड़िया को भी डकैतों ने सीने में चाकू मारकर घायल कर दिया। लेकिन आतताइयों को पस्त होना पड़ा जब चाकू लगने के बावजूद खून से लथपथ नगीना, रेखा और गुड़िया हिम्मत नहीं हारी और डकैतों से मुठभेड़ करती रहीं। डकैतों को भागने के लिए विवश होना पड़ा। एक डकैत मनोज कुमार निवासी लाइन बाजार को परिवार के सदस्यों ने दबोच लिया।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021