जागरण संवाददाता, जौनपुर: लोकसभा चुनाव के परिणाम आ जाने के बाद वोटों के सौदागर बूथवार मतों का हिसाब-किताब निकालने में जुटे हैं। जिन प्रत्याशियों से जितने वोट दिलाने का ठेका लिया था, उस पर खरा न उतरने की स्थिति में उनके रंजिश पालने की आशंका पैदा हो गई है। असरदार और दबंग समर्थक अपने चहेते प्रत्याशियों के पक्ष में वोट न देने वालों से भी खुन्नस खाए बैठे हैं। इसे लेकर पुलिस प्रशासन खासा चौकन्ना है।

चुनाव प्रचार अभियान के दौरान वोटों के तमाम सौदागर विभिन्न राजनीतिक दलों के ही नहीं बल्कि निर्दल उम्मीदवारों के पास भी मंडराने लगे थे। वोट दिलाने के लिए दावत तो कहीं नोट लेने से भी गुरेज नहीं किया था। वहीं कुछ ऐसे भी असरदार और दबंग रहे जो अपने करीबी प्रत्याशी को यह भरोसा दिलाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखे थे कि अपने बूथ पर तो वे कम से कम डंके की चोट पर जीतने भर का वोट दिला ही देंगे। नतीजे आने के बाद वोटों के इन्हीं सौदागरों व ठेकेदारों द्वारा किया जा रहा जोड़-घटाना रंजिश और खुन्नस पालने का सबब बन रहा है। इसे देखते हुए पुलिस प्रशासन पूरी सतर्कता बरत रहा है। थानेदारों को हिदायत दी गई है कि ऐसी कोई छोटी सी भी बात सामने आए तो उसे गंभीरता से लेते हुए तुरंत और ऐसे प्रभावी कदम उठाएं कि शांति व्यवस्था में किसी तरह से खलल न पड़ने पाए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran