जागरण संवाददाता, सिगरामऊ (जौनपुर): स्थानीय क्षेत्र के खमपुर गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय में उस समय अफरा-तफरी मच गई जब दर्जनों की संख्या में बेसहारा पशुओं के लेकर ग्रामीण वहां पहुंच गए। स्कूल का गेट बंद देख ग्रामीणों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। लाठी डंडे के बल पर वे लोग पशुओं को स्कूल में घुसाना चाह रहे थे। लेकिन प्रधानाध्यापक के विरोध के चलते घंटों मशक्कत के बाद आखिरकार वे अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाए तो आक्रोशित होकर कुशहा- बदलापुर मार्ग को अवरुद्ध कर दिया। प्रधानाध्यापक की सूचना पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को समझाया लेकिन तब भी वे लोग शांत नहीं हुए। प्रभारी निरीक्षक बदलापुर राजेश यादव के पहुंचने पर ग्रामीण नहीं माने। प्रशासनिक अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग को लेकर ग्रामीण अपनी बात पर अडिग रहे। अंत में पुलिस ने आश्वासन दिया कि रास्ता खोल दीजिए एसडीएम के आदेश पर एक टीम आकर इन छुट्टा पशुओं को ले जाएगी। तब जाकर ग्रामीण माने और जाम समाप्त हुआ। ग्रामीणों का कहना है कि हमारी रबी की फसल जैसे उगना शुरू हुई वैसे ही ये छुट्टा पशु उसका सर्वनाश कर दे रहे हैं। यदि शासन- प्रशासन व्यवस्था नहीं करता तो हम इन छुट्टा पशुओं को प्राथमिक विद्यालयों में बंद करेंगे। मुन्ना सिंह, रितेश सिंह, कुंदन सिंह, धनंजय सिंह, रानू सिंह, राकेश पाल, सुशील मौर्य आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस