जागरण संवाददाता, शाहगंज (जौनपुर) : विजयदशमी मेले की तैयारी के दौरान शनिवार की दोपहर नगर में रामलीला समिति के लाउडस्पीकर से संदेश प्रसारित हुआ कि रामलीला मैदान में अतिक्रमण करने वाले विवाद कर रहे हैं और समिति के लोगों को धमकी मिल रही है। ऐसे में विजयदशमी का मेला स्थगित किया जा रहा है। इसके बाद मेले के आयोजन को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई। आगे का घटनाक्रम किसी सस्पेंस फिल्म की स्टोरी से कम नहीं था। मेले के आयोजन को लेकर रामलीला समिति के पूर्व अध्यक्ष जय प्रकाश गुप्ता आगे आए तो आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला। इसके बाद किसी तरह विजयदशमी का मेला लग सका और रामलीला मैदान में रावण के पुतले के दहन के साथ परंपरा अनुरूप संपन्न हुआ।

विजयदशमी मेला को लेकर शनिवार की सुबह रामलीला मैदान के चबूतरे पर दुकान लगाने को लेकर समिति और बगल के लोगों के बीच विवाद हो गया। दोपहर में करीब 12 बजे समिति के अध्यक्ष श्यामजी गुप्ता ने प्रशासन पर असहयोग की बात करते हुए मेला स्थगित करने की घोषणा कर दी। इसके बाद मेले के आयोजन को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई। मेले का आयोजन होना चाहिए या फिर नहीं, इसको लेकर लोग अपने-अपने विचार रखने लगे। इस बीच दोपहर करीब दो बजे रामलीला समिति के पूर्व अध्यक्ष जय प्रकाश गुप्ता आगे आए और नगर में लगाए गए लाउडस्पीकर से कहा कि लोग मेला स्थल पर पहुंचे। मेले के आयोजन की अगुवाई वे स्वयं करेंगे। लाउडस्पीकर से इसका प्रसारण होने के उपरांत अध्यक्ष श्यामजी गुप्ता ने भी प्रसारण मंच पर पहुंचकर मेले के आयोजन किए जाने की घोषणा कर दी। इसके साथ ही असमंजस की स्थिति समाप्त हुई और मैदान में विजयादशमी का मेला रावण के पुतला दहन के साथ परंपरा अनुरूप संपन्न हुआ।

Posted By: Jagran