जागरण संवाददाता, जौनपुर : स्वामी रामकृष्ण परमहंस भारत के पांच हजार वर्ष पुराने समृद्ध संस्कृति की तो स्वामी विवेकानंद नवभारत के ¨चतन की प्रतिमूर्ति हैं। उन्होंने भारतीय संस्कृति व मेधा से पूरी दुनिया को परिचित कराया। उक्त बातें प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को वीबीएस पूर्वांचल विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वाधान में स्वामी विवेकानंद की जयंती पर आयोजित युवा महोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि कही।

उन्होंने कहा कि जब व्यक्ति परंपराओं पर गौरव की जगह लज्जा करने लगता है तब उसका पतन निश्चित होता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कौशल विकास योजना की जबर्दस्त सराहना करते हुए कहा कि इसके तहत अब तक चार लाख नौजवान प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं, डेढ़ लाख युवाओं को रोजगार मिल चुका है।

महोत्सव में बड़ी तादाद में मौजूद युवाओं में जोश भरते हुए उन्होंने कहा कि वह नौकरी मांगने वाले नहीं बल्कि नौकरी देने वाले बनें। स्वामी विवेकानंद के आदर्शों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनौतियां आने पर पलायन नहीं बल्कि उनका मुकाबला करने वाला सच्चा युवा है। वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट की महत्वाकांक्षी योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि युवाओं के पास नई सोच है, बस जरूरत है उसे मंच देने की। इस जिले का प्रसिद्ध इत्र उद्योग उचित मंच न मिलने के कारण समाप्त हो गया। विश्वविद्यालय केवल डिग्री व डिप्लोमा बांटने के केंद्र न बनें बल्कि युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएं। भीषण शीतलहर में युवाओं की बड़ी तादाद देख गदगद मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में इस प्रकार की भागीदारी सराहनीय है।

अपने लगभग 35 मिनट के संबोधन में उन्होंने युवाओं व किसानों की ¨चता पर ही मुख्य फोकस किया। अध्यक्षता विवि के कुलपति प्रो. राजाराम यादव ने की। जनसंत योगी देवनाथ, नगर विकास राज्यमंत्री गिरीश यादव, विधायक दिनेश चौधरी, रमेश मिश्रा, डा.लीना तिवारी, संगठन महामंत्री रत्नाकर, लखनऊ क्षेत्र के भाजपा उपाध्यक्ष अमर ¨सह, जिलाध्यक्ष सुशील कुमार उपाध्याय, पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी, रासेयो के प्रभारी राकेश यादव मंच पर मौजूद रहे। संचालन डा.मनोज मिश्र ने किया।

..तो अमेरिका से आएगी इमरती

जौनपुर: एक जिला एक उत्पाद की अपनी योजना की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इससे स्थानीय उद्योग को बेहतर मंच मिल सकेगा। जौनपुर के इत्र उद्योग के समाप्त प्राय होने की बात कहते हुए मुख्यमंत्री ने मजाकिया लहजे में कहा कि यदि प्रसिद्ध उद्योगों को बेहतर मंच न दिया गया तो यहां की प्रसिद्ध इमरती भी इतिहास बन जाएगी और अमेरिका से इमरती मंगानी पड़ेगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप