जागरण संवाददाता, जौनपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एफडीआर पद्धति से जौनपुर व आजमगढ़ की सड़कों की मरम्मत जिला पंचायत करा रहा है। इस विशेष प्रकार की तकनीक से पर्यावरण प्रदूषण कम होगा। गिट्टी का कम प्रयोग होने से ट्रांसपोर्टेशन कम होने पर सड़क खराब नहीं होगी। यह प्रयोग सफल रहा तो इस तकनीक का प्रयोग अन्य विभागों में भी किया जाएगा।

यह बात मुख्यमंत्री ने बुधवार को कलेक्ट्रेट एनआइसी के जरिए वर्चुअल संवाद के दौरान जनप्रतिनिधि व अधिकारियों से कही। इस दौरान उन्होंने जिला पंचायत व आरइएस की 47 सड़कों का शिलान्यास किया। इनमें जिला पंचायत की एफडीआर तकनीक से बनने वाली दस सड़क रही। यह कुल 33 किमी की सड़क 23 करोड़ की लागत से तैयार होगी। ग्रामीण अभियंत्रण विभाग की प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के फेज तृतीय के तहत 37 सड़कों का शिलान्यास हुआ। यह कुल 238 किमी सड़क मरम्मत का कार्य 167 करोड़ की लागत से होगा।

सीएम ने जिला पंचायत अध्यक्ष से संवाद करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में धन की कमी नहीं आने पाएगी। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण के लिए गांवों में ग्राम समाज की भूमि पर किसी व्यक्ति के नाम से तालाब बनाने के लिए प्रेरित करें। इसमें आधा खर्च उस व्यक्ति को वहन करना होगा।

जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीकला सिंह ने भी सीएम के समक्ष अपना पक्ष रखा। इस मौके पर जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा, एडीएम भू-राजस्व राजकुमार द्विवेदी, डीडीओ बीबी सिंह, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत जेपी मौर्या, अधिशासी अभियंता ग्रामीण अभियंत्रण विभाग दिलीप कुमार शुक्ला आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran