जागरण संवाददाता जौनपुर : बाहर रह रहे सरकारी कर्मियों को शत प्रतिशत मतदान के लिए चुनाव आयोग द्वारा इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलट सिस्टम (ईटीपीबीएस) को प्रयोग करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए निर्वाचन कार्यालय को पत्र भेजा गया है। जिसमें कहा गया कि यदि सेवा मतदाता इस प्रणाली के माध्यम से अपना वोट डालने का विकल्प बनाता है, तो इस पर काम किया जाएगा। जिससे शत प्रतिशत मतदान हो सके। प्रशासन इसकी कवायद में लगा हुआ है।

यह अनुमान लगाया गया है कि सशस्त्र बलों, राज्य और केंद्रीय पुलिस संगठनों के कुल कर्मियों में से 60 फीसद से अधिक सेवा मतदाता होते है। इनमें से अधिकतर मतदाताओं का वोट चुनाव के समय नहीं पड़ पाता है। जिससे चुनाव आयोग की मंशा सौ फीसद मतदान पूरा नहीं हो पाता। इसको देखते हुए ईटीपीबीएस सिस्टम लागू करने की तैयारी है। यदि मतदाता/सेवा मतदाता इस प्रणाली के माध्यम से अपना वोट डालने का विकल्प बनाता है, तो पोस्टल बैलट को वास्तविक मतदाता के आधार पर अधिकृत मतदाता को इलेक्ट्रॉनिक डेटा प्रारूप में वितरित किया जाएगा। चुनाव आयोग ने जो पत्र भेजा है उसके तहत डाक मतपत्र से लिफाफों व ईटीपीबीएस व्यवस्था में प्रयुक्त होने वाले लिफाफों की व्यवस्था स्थानीय स्तर पर हो। लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 में प्रयुक्त होने वाले डाक मतपत्र से संबंधित लिफाफों का मुद्रण व ईटीपीबीएस व्यवस्था में प्रयुक्त होने वाले लिफाफों की व्यवस्था आवश्यकतानुसार निर्वाचन आयोग के निर्देश पर होगा। इस बाबत अपर जिला निर्वाचन अधिकारी आरपी मिश्र ने बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा ईटीपीबीएस से सरकारी सेवा में काम करने वाले लोगों को वोट कराने का पत्र प्राप्त हुआ है। अगले आदेश का इंतजार है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप