जागरण संवाददाता, मल्हनी (जौनपुर) : वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय प्रशासन ने बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी हास्टल को खाली करा दिया है। छात्र पठन-पाठन सामग्री लेकर अपने घर लौट गए। छात्रों से कहा गया कि उन्हें आनलाइन शिक्षा दी जाएगी और भोजन का जमा शुल्क भी बाद में लौटाया जाएगा।

कुलपति प्रो. निर्मला एस मौर्या के आदेश पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव महेंद्र कुमार ने सभी हास्टल के छात्र-छात्राओं को पत्र जारी किया। जिसमें उन्होंने कहा है कि बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण के चलते हास्टल बंद करने का फैसला लिया गया है। छात्र-छात्राएं हास्टल छोड़कर अपने घर को चले जाएं। इसके साथ ही शिक्षण सामग्री भी साथ लेकर जाएं ताकि उन्हें आनलाइन शिक्षा दी जा सके। जिससे उन्हें किसी भी तरह की दिक्कत का सामना न करना पड़े। छात्रों का भोजन के लिए जमा रुपया भी वापस लौटाया जाएगा या फिर उसका एडजेस्टमेंट किया जाएगा।

विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से जारी नोटिस को सीवी रमन, चरक, विश्वकर्मा, द्रोपदी, मीराबाई, लक्ष्मी बाई आदि छात्रावासों पर चस्पा करते हुए हास्टल खाली कराकर उसमें ताला बंद कर दिया गया है। जिससे शोधार्थी छात्र-छात्राओं की समस्या बढ़ गई। उन्होंने इस बात की समस्या को अपने शोध निदेशक से अवगत कराया। शोध निदेशक व विभिन्न संस्थानों के विभागाध्यक्ष ने शोधार्थी छात्रों को ट्रांजिट आदि आवास में शिफ्ट कराया।

--------------------------

बोले जिम्मेदार :-

मेस बंद होने और कोविड-19 के चलते हास्टल बंद होने की स्थिति में छात्र-छात्राओं का भोजन बंद हो जाता है। जितने दिन विद्यार्थी भोजन नहीं किए रहेंगे उतने दिन का रुपया चेक के माध्यम से उन्हें लौटा दिया जाता है।

-डा. संतोष कुमार, प्राक्टर।

Edited By: Jagran