जागरण संवाददाता, जौनपुर: वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण से मृत वित्तविहीन विद्यालयों के शिक्षकों की सूची रविवार को शासन से मांगी गई। अवकाश का दिन होने के बावजूद आनन-फानन में जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय खोलकर मृत शिक्षकों की सूची शाम तक भेज दी गई। कोरोना काल में जिले में तीन प्राइवेट स्कूलों के शिक्षक काल कवलित हुए हैं।

संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय वाराणसी से आधे घंटे में कोरोना में मृत प्राइवेट विद्यालयों के शिक्षकों की सूची मांगी गई। ऐसे में अवकाश के दिन कार्यालय खोलकर फोन के माध्यम से जानकारी एकत्र की गई। बताया गया कि सरकार मृत शिक्षकों के स्वजन को आर्थिक सहयोग देने की तैयारी कर रही है। जिला विद्यालय निरीक्षक राज कुमार पंडित ने बताया कि जनपद में प्राइवेट स्कूलों के तीन शिक्षकों की कोरोना से मौत हुई है। इनमें दो सीबीएसई बोर्ड के स्कूल के शिक्षक व एक माध्यमिक शिक्षा परिषद के शिक्षक हैं। उन्होंने बताया कि तीनों की सूची भेज दी गई है। मृत नौ शिक्षकों व कर्मचारियों के पाल्यों को जल्द मिलेगी नौकरी

जौनपुर: मुख्यमंत्री ने कोरोना में मृत शिक्षकों व कर्मचारियों के आश्रितों को अविलंब नौकरी देने व पत्नी को पेंशन देने का आदेश दिया है। शासन से पत्र आने के बाद जनपद स्तर पर प्रक्रिया तेज कर दी गई है। जिला विद्यालय निरीक्षक राज कुमार पंडित ने बताया कि जनपद में छह शिक्षक व तीन परिचारकों की कोरोना से मौत हुई है। इनके आश्रितों को समस्त देयकों का भुगतान, नौकरी व पत्नी को पेंशन की प्रक्रिया चल रही है।

Edited By: Jagran