जागरण संवाददाता, जौनपुर: सरपतहां थाना क्षेत्र के रामनगर में मुकदमा हारने के प्रतिशोध में वादिनी के पुत्र की गड़ासी व टंगारी से हत्या करने तथा परिवार के अन्य सदस्यों पर प्राणघातक हमला कर चोटें पहुंचाने के चार आरोपी पूर्व सेल्स ऑफिसर, उसकी मां, सगे भाई व भाई की पत्नी को अपर सत्र न्यायाधीश मनोज कुमार सिंह गौतम ने आजीवन कारावास व प्रत्येक को जुर्माने की सजा सुनाया। जुर्माने की आधी धनराशि चोटहिलों व मृतक के विधिक वारिस को मिलेगी। घटना की प्राथमिकी मृतक की मां शोभावती देवी ने दर्ज कराया था।

अभियोजन के अनुसार वादिनी शोभावती के घर से व हरिहर से जमीन का मुकदमा चल रहा था जिसमें वादिनी के परिवार वालों के पक्ष में न्यायालय से फैसला हो गया। इसी बात की रंजिश को लेकर हरिहर तिवारी उनके पुत्र जटाशंकर व राकेश, पत्नी प्रभावती व जटाशंकर की पत्नी किरन लाठी, डंडा गड़ासी व टंगारी लेकर गालियां देते हुए जान से मारने की नियत से वादी के दरवाजे पर चढ़ आए वादिनी के परिवार वाले जान बचाने के लिए घर में भागे तो आरोपी घर से खींच कर वादिनी के पति केशव व पुत्र नरेंद्र पर प्राणघातक हमला कर गंभीर चोटे पहुंचाए। बीच बचाव में वादिनी व उसकी पोतियों को भी आरोपियों ने चोटे पहुंचाया। शोर पर गांव के राकेश आदि आ गए। घटना देखे व बीच-बचाव कर जान बचाए। आरोपी धमकी देते हुए चले गए। वादिनी के पुत्र नरेंद्र की दौरान इलाज मृत्यु हो गई। पुलिस ने दौरान विवेचना आरोपी की निशानदेही पर आलाकत्ल बरामद कराया। आरोपी हरिहर की दौरान मुकदमा मृत्यु हो गई। कोर्ट ने समस्त साक्ष्यों का परिशीलन करने तथा दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद जटाशंकर, राकेश, किरन व प्रभावती को हत्या व अन्य धाराओं में दोषी पाते हुए सजा सुनाया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस