मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, जौनपुर: लाइन बाजार थाना क्षेत्र निवासी पति से 6 वर्ष पूर्व दीवानी न्यायालय में भरण पोषण के मुकदमे में सुलह होने तथा तलाक होने के बावजूद जबरन घर में ताला तोड़कर रहने, उसे तथा उसके परिवार वालों को मारने-पीटने तथा गहने व रुपये लूटने की आरोपित पत्नी व उसके भाइयों के खिलाफ एसपी के आदेश पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ। एफआईआर की कापी कोर्ट में दाखिल की गई।

लाइन बाजार थाना क्षेत्र निवासी पति ने पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई है कि 2012 में उसकी शादी सुषमा से हुई थी। वह झगड़ालू, चालबाज महिला है। झूठा दहेज उत्पीड़न व भरण पोषण का मुकदमा कोर्ट में दाखिल की थी। 5 जून 2013 को 50 हजार रुपये एकमुश्त लेकर भरण पोषण के मुकदमे में न्यायिक मजिस्ट्रेट की कोर्ट में सुलह हुई और पति-पत्नी का संबंध समाप्त करके तलाक ले लिया। तलाक के 6 साल बाद 19 जुलाई 2019 को सुषमा व उसके मायके वाले जबरन वादी के घर का ताला तोड़कर सुषमा को घर में घुसा दिए। इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को दिया। सुषमा के भाई नेता हैं। वादी की सम्पत्ति हड़पना चाहते हैं। 15 अगस्त 2019 को 3:00 बजे दिन सुषमा के तीनों भाई गालियां देते हुए घर में घुस आए। वादी के परिवार वालों को मारे-पीटे, रुपये व सोने की अंगूठी, चेन जबरन लूट लिए। घर का सामान तोड़फोड़ कर हजारों रुपये का नुकसान कर डाले। धमकी दिए कि सुषमा को घर से निकाला तो पूरे परिवार को जान से मार कर खत्म कर देंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप