जौनपुर: आजाद ¨हद इलेक्ट्रोपैथिक मेडिकल इंस्टीट्यूट सीहीपुर मुरादगंज परिसर में मंगलवार को प्रबंधक मो. अयूब की अध्यक्षता में इलेक्ट्रोपैथिक छात्रों एवं चिकित्सकों की बैठक हुई। इस मौके पर इलेक्ट्रोपैथी चिकित्सा पद्धति विधेयक 2018 ध्वनिमत से पारित होने पर राजस्थान सरकार की पहल का स्वागत किया गया। प्राचार्य डा. आरपी यादव ने कहा कि जिस प्रकार आयुर्वेद, होम्योपैथी की मान्यता सर्वप्रथम राजस्थान से हुई उसी प्रकार इलेक्ट्रोपैथी चिकित्सा पद्धति को भी वहीं से मान्यता की शुरुआत हुई है। यह सफलता डा.हेमंत सेठिया और इलेक्ट्रोपैथी सम्राट डा.एनके अवस्थी चेयरमैन एनईएचएम आफ इंडिया के अथक परिश्रम से प्राप्त हुई।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप