जागरण संवाददाता, मछलीशहर (जौनपुर): सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर गुरुवार की रात इमरजेंसी ड्यूटी में तैनात एक चिकित्सक की पिटाई कर दी गई। इससे खफा अस्पताल के चिकित्सक व कर्मचारी शुक्रवार से हड़ताल पर चले गए। पीड़ित की तहरीर के मुताबिक प्राइवेट अस्पताल से लाए गए एक अधेड़ को मृत घोषित किए जाने के बाद अज्ञात आरोपीगण शव ले जाने के लिए एबुलेंस की मांग कर रहे थे। चिकित्सक ने इस पर असमर्थता जताते हुए 108 की सेवा लेने को कहा था, हालांकि पुलिस ने मामले में आठ अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। दूसरी ओर प्रदर्शकारियों को समझाने पहुंचे एसडीएम जदगंबा प्रसाद ¨सह से अस्पताल प्रशासन ने दो टूक कह दिया कि वे यहां नियमित 24 घंटे पुलिस की तैनाती या पुलिस चौकी बनाने जाने तक हड़ताल से वापस नहीं लौटेंगे। इससे मरीजों को मजबूर होकर प्राइवेट अस्पतालों का सहारा लेना पड़ रहा है।

बताया जा रहा है कि आधी रात को परसुपुर गांव निवासी नरेंद्र नाथ (50) वर्ष की हृदयघात से हालत खराब हो गई। परिवारीजन उन्हें एक निजी चिकित्सालय ले गए। जहां हालत में सुधार की और बिगड़ती देख चिकित्सक ने यह कहते हुए सीएचसी रेफर कर दिया कि मरीज को तत्काल आक्सीजन की आवश्यकता और वह वहां उपलब्ध है। इसके बाद परिजन नरेंद्र को लेकर सीएचसी पहुंचे। अस्पताल में इमरजेंसी ड्यूटी पर तैनात डा. अमरेश अग्रहरि ने मरीज को देखने के बाद मृत घोषित कर दिया। आरोप है कि इसके बाद परिजन शव को अस्पताल के बाहर ले गए, फिर चिकित्सक से एंबुलेंस की मांग करने लगे। इस पर चिकित्सक ने असमर्थता जताते हुए 108 की सेवा लेने के लिए कहा, जो उन्हें नागवार गुजरी और वे डा. अग्रहरि की पिटाई करना शुरू कर दिए। जानकारी होने पर अस्पताल में मौजूद अन्य स्टाफ के लोग दौड़े तो मामला कुछ शांत हुआ, लेकिन चिकित्सक को गंभीर चोटें आई और पैर में फैक्चर होने की बात कहीं जा रही है। सुबह होते-होते सभी चिकित्सक एवं स्टाफ के लोग अस्पताल पहुंचे और हड़ताल पर जाने का निर्णय लेकर अस्पताल में तालाबंदी करते हुए काम बंद कर दिए। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि आरोपियों गिरफ्तारी, अस्पताल में नियमित रुप से 24 घंटे पुलिस की तैनाती तक ओपीडी और इमरजेंसी सेवा ठप रहेगी। बाइक पर शव लेकर भागे लोग

अस्पताल कर्मियों ने बताया कि चिकित्सक की पिटाई के बाद अस्पताल के कर्मचारी पहुंचने लगे। साथ ही घटना की जानकारी एसडीएम और पुलिस को दी जाने लगी। इसकी जानकारी होते ही आरोपी बाइक से ही शव लेकर भाग खड़े हुए। उधर पुलिस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की है।

Posted By: Jagran