जागरण संवाददाता, बरसठी (जौनपुर): अभी दाऊदपुर गांव में दिव्यांग दंपती की पिटाई का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि गुरुवार को घर में घुसकर एक नौकरशाह के भाई और गोपालपुर गांव की प्रधान के पति द्वारा मूक-बधिर वृद्धा और उसकी पौत्री की सरेआम पिटाई के मामले में कार्रवाई करने की बजाए थाना पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है। डीएम व एसपी से निराश परिजनों ने न्याय के लिए मुख्यमंत्री के जन सुनवाई पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई है।

गोपालपुर गांव निवासी रितेश पांडेय ने मुख्यमंत्री को ऑनलाइन भेजे गए पत्र में आरोप लगाया है कि 14 मार्च को चुनावी रंजिश को लेकर गांव के प्रधानपति अभिमन्यु पाठक परिवार के साथ उसके घर में घुस आए। उसकी मूक-बधिर दादी की पिटाई करने लगे। शोर सुनकर उसकी बहन ज्योति बचाने गई तो बाल पकड़कर घसीटते हुए बेरहमी से उसे भी पीटा। दादी व बहन को लेकर वह थाने गया तो फरियाद सुनकर कार्रवाई करने की बजाए थानाध्यक्ष ने डांटते हुए भगा दिया कि प्रधानपति का भाई आइएएस अधिकारी है, कोई कार्रवाई नहीं होगी।

थाने से निराशा मिलने पर रितेश पांडेय ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक के कार्यालय का चक्कर काटा। वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई। तब उसने रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जन सुनवाई पोर्टल पर न्याय की गुहार लगाई। कहा कि घटना से पूरा परिवार आतंकित और तनावग्रस्त है। इस बाबत पूछने पर सीओ मड़ियाहूं अवधेश शुक्ला ने कहा ऐसा कोई मामला संज्ञान में नहीं है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप