जौनपुर, जेएनएन। कुर्बानी का प्रतीक ईदुल अजहा का पर्व सोमवार को पूरी अकीदत के साथ मनाया गया। नगर से लेकर ग्रामीणांचल तक लोगों ने इबादतगाहों में नमाज पढ़ी। इसके बाद घर पहुंच कर कुर्बानी दी। शाही ईदगाह में सुबह 8:30 बजे बकरीद की नमाज मौलाना जफर अहमद सिद्दीकी की सरपरस्ती में नायब इमाम मौलना फैसल कमर ने पढ़ाई। सुबह से ही नमाजी ईदगाह की ओर आते दिखाई देने लगे। नमाज से थोड़ा पहले तक ईदगाह का अंदरूनी हिस्सा भर चुका था। मौलाना ने नमाज के बाद मुल्क की खुशहाली और तरक्की के लिए दुआ कराई। सुन्नते रसूल पर चलने की हिदायत दी। इसके बाद मौलाना ने खुत्बा पढ़ा।

खुत्बा खत्म होने के बाद लोग कुर्बानी देने के लिए घर की ओर चले गए। नमाज के पहले उलेमाओं ने तकरीर में रसूल अल्लाह सल्ललाहु अलैहे वसल्लम के बारे में बताया। लोगों को उनकी सुन्नतों पर अमल करने की ताकीद की। कुर्बानी के पर्व बकरीद की फजीलत के बारे में विस्तार से बताया। वहीं शाही ईदगाह के बाहर बने पंडाल में जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा बंगारी, एसपी विपिन मिश्रा, सांसद श्याम सिंह यादव, पूर्व गवर्नर माता प्रसाद, पूर्व विधायक अफजाल अहमद, पूर्व चेयरमैन दिनेश टण्डन आदि ने लोगों को गले मिल कर बकरीद की बधाई दी। त्योहार के मद्देनजर सुरक्षा-व्यवस्था के खास इंतजाम थे।

शाही ईदगाह के आसपास घरों की छत से पुलिस के जवान चौकसी बरतते दिखाई दिए। शहर के यातायात को भी नमाज के मद्देनजर शाही ईदगाह की ओर आने से रोक दिया गया था। इसके अलावा मदरसा हुसैनिया लाल दरवाजा, बड़ी मस्जिद, आदमपुर स्थित मरदसा, सिपाह के बल्लोचटोला स्थित मस्जिद, सब्जीमंडी स्थित मस्जिद, नवाब साहब का अहाता स्थित मस्जिद, मंडी नसीब खां स्थित बाड़े आदि में भी ईदुल अजहा की नमाज अदा की गई। शिया धर्मगुरू मौलाना महफूजुल हसन ने सदर इमामबाड़ा व मौलाना सफदर हुसैन जैदी ने नकी फाटक पर नमाज अदा कराई। ग्रामीणांचल में भी शांतिपूर्वक मनाई गई ।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप