जासं, जौनपुर: दीवानी न्यायालय के अधिवक्ता राजेश कुमार वर्मा को भूमिधरी जमीन पर निर्माण को लेकर न्यायालय से बातचीत के बहाने सरायख्वाजा पुलिस द्वारा थाने पर बुलाकर शांति भंग में चालान करने और कथित तौर पर अपशब्द कहने से आक्रोशित वकीलों ने बुधवार को दिनभर न्यायिक कामकाज का बहिष्कार किया। हाईकोर्ट के आदेश पर अधिवक्ता के भाई निर्माण करा रहे थे। पुलिस उनके भाई को घर से उठा ले गई। जब अधिवक्ता ने न्यायालय से फोन किया तो पुलिस ने कहा कि आप यहां आ जाइए और बात करके अपने भाई को ले जाइए। वहां पहुंचने पर उन्हें भी बैठा लिया। आरोप है कि अपशब्द कहते हुए शांति भंग का मामला दर्ज कर चालान कर दिया। अधिवक्ताओं ने प्रस्ताव पारित कर घटना की निदा की। तय किया गया कि अधिवक्ताओं का प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से मिलकर अधिवक्ताओं की संपत्ति व सम्मान की सुरक्षा की मांग करेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस