जागरण संवाददाता, बरसठी (जौनपुर): क्षेत्र के बड़ेरी गांव में बुधवार की रात अराजक तत्वों ने संविधान निर्माता बाबा साहब डाक्टर भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त कर दी। गुरुवार की सुबह पता चलते ही गांव में जातीय तनाव की स्थिति बन गई। मड़ियाहूं तहसील प्रशासन के आनन-फानन में उसी स्थान पर नई प्रतिमा की स्थापना करा देने से लोगों का आक्रोश शांत हो गया और स्थिति सामान्य हो गई।

गांव के बाहर एकांत स्थान पर स्थापित प्रतिमा कुछ अराजक तत्वों ने रात में खंडित कर दी। सुबह ग्रामीणों की नजर क्षतिग्रस्त प्रतिमा पर पड़ी तो गांव में खलबली मच गई। मौके पर शराब की खाली शीशियां, नमकीन के पैकेट व पालीथिन की थैली पड़ी थी। अनुमान लगाया जा रहा है कि प्रतिमा क्षतिग्रस्त करने से पूर्व अराजक तत्वों ने वहीं बैठकर शराब का सेवन किया था। देखते ही देखते बड़ी संख्या में आक्रोशित ग्रामीण मौके पर जुट गए। बहुजन समाज पार्टी के नेता रामफेर गौतम, सपा नेता जयहिद यादव आकर लोगों को समझाने-बुझाने लगे, लेकिन ग्रामीणों का गुस्सा शांत नहीं हो रहा था। पता चलते ही तहसील प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। मड़ियाहूं के सीओ संत प्रसाद उपाध्याय व नायब तहसीलदार संतोष सिंह मौके पर भारी फोर्स के साथ आ गए। उन्होंने तुरंत नई प्रतिमा मंगाकर उसी स्थान पर स्थापित कराई। साथ ही प्रतिमा तोड़ने वालों को चिह्नित कर जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। इसके बाद उनके समझाने-बुझाने पर आक्रोशित ग्रामीण शांत हो गए। ढाई वर्ष पूर्व भी क्षतिग्रस्त की गई थी प्रतिमा

उक्त स्थान पर स्थापित प्रतिमा को अराजक तत्वों ने 29 मार्च 2019 की रात में भी खंडित कर गांव से कुछ दूर नहर में फेंक दिया था। भारी तनाव के चलते सर्किल के सभी थानों की फोर्स बुलानी पड़ी थी। उस समय भी नई प्रतिमा स्थापित कराने पर माहौल शांत हुआ था।

Edited By: Jagran