जागरण संवाददाता, जौनपुर: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को जुमा की नमाज के बाद निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर विरोध प्रदर्शन और पथराव करने के गिरफ्तार तीन आरोपितों को अदालत ने न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है। न्यायाधीश ने पुलिस को आरोपितों का आपराधिक इतिहास कोर्ट में पेश करने को कहा है।

मालूम हो कि विरोध प्रदर्शन के दौरान पथराव और अराजकता फैलाने के मामले में कोतवाली पुलिस ने प्रभारी निरीक्षक पवन कुमार उपाध्याय की तहरीर पर 14 नामजद व सौ-सवा सौ अज्ञात आरोपितों के खिलाफ उसी दिन देर शाम संगीन धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया था। शनिवार की दोपहर कोतवाल व उनके सहयोगियों ने तीन आरोपितों मोहम्मद अजहर निवासी मंडी नसीब खां, सलमान निवासी निवासी रिजवी खां व मोहम्मद फहीम उर्फ संजू निवासी पुरानी बाजार को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए आरोपितों का चालान कर पुलिस ने शाम साढ़े सात बजे एसीजेएम (पंचम) के आवास पर पेश किया। आरोपितों के वकीलों की तरफ से जमानत की अर्जी प्रस्तुत की गई। एसीजेएम ने आरोपितों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया और पुलिस को सोमवार को उनका आपराधिक इतिहास कोर्ट में पेश करने को कहा। दूसरी तरफ पुलिस अन्य नामजद व विरोध प्रदर्शन के दौरान की गई वीडियो रिकार्डिंग के आधार पर अन्य आरोपितों को चिह्नित करने का प्रयास कर रही है। पुलिस की इस कार्रवाई से विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों के हाथ-पांव फूूले हुए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस