जागरण संवाददाता, जौनपुर: ग्रामीण क्षेत्रों में खेल को बढ़ावा देने के लिए बड़ी तैयारी की जा रही है। यहां सभी 21 ब्लाकों में 97 खेल मैदान मनरेगा के तहत बनवाए जाएंगे। इससे श्रमिकों को भी रोजगार मिलेगा, वहीं गांवों में छिपी खेल प्रतिभाओं को निखरने का मौका मिलेगा। इसके लिए खाली पड़ी ग्राम पंचायत की भूमि को उपयोग में लिया जाएगा। सीडीओ अनुपम शुक्ल की अध्यक्षता में भूमि चिह्नित कर पैमाइश कराने के लिए सूची सभी एसडीएम को सौंप दी गई है।

खेल मैदान में बैडमिटन व वालीबाल कोर्ट के अलावा रनिग ट्रैक भी बनवाया जाएगा। साथ ही कुश्ती व कबड्डी के खिलाड़ियों के लिए अलग से इंतजाम किया गया है। प्रत्येक ब्लाक में तीन से पांच खेल का मैदान तैयार होगा, जिन्हें जगह की उपलब्धता के हिसाब से आकार दिया जाएगा। कुछ दिनों पहले सीडीओ ने संबंधित अधिकारियों के साथ ब्लाकों का निरीक्षण कर भूमि का चिह्नांकन किया। इसके बाद सूची को एसडीएम समेत बीडीओ को भेजा गया। एसडीएम चिह्नित भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराएंगे, जबकि बीडीओ निर्माण में लागत का स्टीमेट तैयार करेंगे। निर्माण शुरू कराने के लिए जरूरी औपचारिकताओं को पूरा किया जा रहा है। इस पहल से बड़ी संख्या में मनरेगा श्रमिकों को रोजगार मिलेगा। वर्जन--

राजस्व विभाग से चिह्नित भूमि की पैमाइश करने को कहा गया है। शासन की ओर से लिया गया यह फैसला सराहनीय है। प्रत्येक ब्लाक में खेल मैदान होने से गांवों में खिलाड़ियों को प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। निर्माण में आने वाले खर्च का आकलन किया जा रहा है। जल्द कार्य शुरू कराया जाएगा।

-भूपेंद्र सिंह, उपायुक्त मनरेगा।

Edited By: Jagran