जागरण संवाददाता, जौनपुर : जांच की कसौटी पर अधिकतर खाद्य पदार्थ शुद्धता की कसौटी पर खरे नहीं उतरे। मिलावटखोरों के खिलाफ चलाए गए अभियान में 133 दुकानदारों के खिलाफ सक्षम न्यायालय में वाद दर्ज किया गया, जिसमें 65 पर सात लाख 68 हजार रुपये का जुर्माना लगा। जांच में यह भी सामने आया कि सतहरिया में चिप्स, पापड़ बनाने वाली फैक्ट्रियां जरूरत से अधिक कलर मिला रही हैं, जिन्हें नोटिस जारी किया गया है।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन ने जांच की जद में दुकानों के साथ ही फैक्ट्रियों को भी लिया। जहां अधिकतर स्थानों पर मानकों की धज्जियां उड़ती मिलीं। खोवा में जहां स्टार्च की मात्रा पाई गई, वहीं चिप्स, पापड़ व नमकीन अधिक कलर युक्त पाया गया। जांच में यह भी पाया गया कि कई दुकानदार घटिया तेल का प्रयोग कर रहे हैं। बेसन व मैदा भी घटिया पाया गया। वर्ष 18-19 में 80 दुकानों का निरीक्षण किया गया, जिसमें 50 लोगों को नोटिस जारी करते हुए 64 सेंपल लिए गए। साथ ही दो लाख 72 हजार रुपये का सामान जब्त किया। मिलावटी खाद्य पदार्थ बेच लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने वाले दुकानदारों पर कार्यवाही भी कई। न्यायालय ने इसे गंभीरता से लेते हुए 65 लोगों पर सात लाख 68 हजार का जुर्माना लगाया।

.......

पहले भी हुई कार्रवाई

इसके पूर्व होली पर भी विभाग की ओर से 82 दुकानों का निरीक्षण कर 49 सेंपल लिए थे। इतना ही नहीं 15 लाख रुपये का खाद्य पदार्थ भी जब्त किया गया गया। लगातार हो रही कार्रवाई के बाद भी मिलावटखोरी कम नहीं हो रही है। नगर सहित ग्रामीण इलाकों में बड़े पैमाने पर मिलावटी खाद्य उत्पाद बेच लोगों की सेहत से खिलवाड़ किया जा रहा है।

...... त्योहार के अलावा भी समय-समय पर अभियान चला दुकानों की जांच की जाती है। सख्ती की वजह से खोवा में मिलावट की शिकायतें पहले की अपेक्षा कम हुई हैं। आम लोगों को चटकीले चिप्स, पापड़ व नमकीन की खरीददारी से बचना चाहिए। दुकानदारों को खाद्य पदार्थों में मिलावट नहीं करने की सख्त हिदायद दी गई है। ऐसा करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अनिल कुमार राय, मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस