मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, उरई : शहर की मुख्य सड़क जिसे पुराना राजमार्ग से जाना पहचाना जाता है। इसकी हालत जल्दी ही सुधर जाएगी। वर्तमान में यह सड़क जर्जर हालत में है जिससे यातायात में अव्यवस्था उत्पन्न होती है। लोक निर्माण विभाग की अनदेखी के चलते काफी समय से सड़क का हाल खराब बना हुआ है। हालांकि अब 180 लाख रुपये से इसकी दशा को जल्द सुधारने की तैयारी है।

शहर की मुख्य सड़क पहले हाइवे की आधीन थी। फोरलेन बन जाने के बाद इसको लोक निर्माण विभाग को सौंप दिया गया है। अब से चार वर्ष पहले सड़क का निर्माण रिनियां क्रासिग से लेकर इंदिरा स्टेडियम तक कराया गया था। तत्कालीन अधिशाषी अभियंता ने सड़क की गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखा था। उनका स्थानांतरण हो जाने के बाद इस सड़क की मरम्मत आदि की तरफ ध्यान देना बंद कर दिया गया। हालत यह हो गई कि कई स्थानों पर सड़क में गड्ढे हो गए हैं। सड़क जर्जर हालत में बनी रही। लेकिन प्रांतीय खंड ने इसकी ओर ध्यान देने की जहमत नहीं उठाई। प्रदेश सरकार सड़कों को गड्ढा मुक्त करने पर जोर दे रही है जिसके चलते इस सड़क का आंकलन बनाकर बेजा गया था जिसको स्वीकृति मिल गई है। सहायक अभियंता वृंदावन लाल गौतम ने बताया कि दस किलोमीटर तक सड़क का नवीनीकरण कार्य कराया जाना है। इसमें 180 लाख रुपये खर्च होंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप