जागरण संवाददाता, उरई : लगातार तीन दिनों से कोहरा पड़ने के कारण जनजीवन खासा प्रभावित हो रहा है। कोहरे के कारण लोगों को अधिक सर्दी का सामना करना पड़ रहा था। शनिवार को हुई बारिश के साथ चली सर्द हवाओं ने एक बार फिर लोगों को घरों में दुबके रहने को विवश कर दिया है। बारिश के कारण अलाव भी नहीं जल सके। इस कारण लोगों की परेशानी पहले से ज्यादा रही है।

शुक्रवार की रात से शुरु हुई बारिश शनिवार की दोपहर तक हुई। जिससे सर्दी बढ़ गई। सर्दी के कारण लोग घरों से कम ही निकले। बारिश से दिहाड़ी मजदूर काम पर नहीं जा सके। बाजार में जो लोग फुटपाथ के किनारे रहते थे बारिश के कारण वह भी सुरक्षित स्थान पर चले गए जिससे भीगें नहीं। बारिश तो थम गई लेकिन सर्दी बढ़ गई। सुबह से चली सर्द हवाओं ने गलन को बढ़ा दिया। बाजार में जो रिक्शा चालक व राहगीर घूम रहे थे वह भी आग तापते रहे। शनिवार की शाम को शहीद भगत सिंह चौराहे पर जले अलाव के आसपास सर्दी से निजात पाने के लिए लोगों की भीड़ रही। नगर पालिका प्रशासन ने सर्दी को देखते हुए अलाव में पर्याप्त लकड़ी की व्यवस्था कराई जिससे कि रात भर अलाव ठंडा न हो सके और लोगों को सर्दी में परेशानी न हो। लेकिन बारिश के कारण ज्यादातर स्थानों में अलाव नहीं जल सके। तापमान अधिकतम 18 व न्यूनतम 12 डिग्री सेल्सियस रहा।

-------

फुटपाथों पर नहीं दिखे लोग :

शनिवार को सुबह से हो रही बारिश के कारण लोग सर्दी से बचाव के लिए सुरक्षित स्थानों पर चले गए। इससे फुटपाथ खाली नजर आए। हालांकि शाम को बारिश रुक जाने के बाद कई जगह बेसहारा लोग फुटपाथों किनारे आग जलाकर सर्दी से बचाव करते देखे गए।

------

सर्द हवा से करें बचाव :

जिला अस्पताल के डा. एस के सिंह ने बताया कि बारिश के साथ सर्द हवाएं चल रही हैं। इनसे बच्चों को बचाव करना चाहिए। क्योंकि सर्द हवाओं से बच्चों जुखाम व बुखार की शिकायत हो सकती है। इसलिए बच्चों के कानों को ढककर रखें और घर से न निकलने दें।

Edited By: Jagran