संवाद सहयोगी, कोंच : बीते दिनों बारिश के कारण पहुज नदी में आई बाढ़ से भारी क्षति हुई थी। ग्राम सलैया बुजुर्ग में सौ से ज्यादा घर क्षतिग्रस्त हो गए थे। तबाही को देखने के लिए मंगलवार को नायब तहसीलदार लेखपाल व कानूनगो के साथ वहां पहुंचे। गिरे हुए मकानों को देखा और पीड़ितों को हर संभव आर्थिक सहायता दिलवाने का भरोसा दिलाया।

पहुज नदी के किनारे ग्राम सलैया बुजुर्ग बसा है। बाढ़ के पानी से 100 से अधिक कच्चे मकान गिर गए थे। ग्रामीणों की मांग पर क्षेत्रीय विधायक मूलचन्द्र निरंजन से गांव का दौरा भी किया था। इसके बाद नायब तहसीलदार राकेश कुमार राजपूत गांव पहुंचे और बाढ़ से गिरे मकानों का निरीक्षण किया। उन्होंने ऐसे 100 मकान देखे जो बाढ़ के पानी से क्षतिग्रस्त हो गए थे। उन्होंने पीड़ित परिवारों से बात कर उनके नुकसान का जायजा लिया तथा पीड़ितों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी। उन्होंने बताया कि पात्र और अपात्र दोनों की सूची तैयार की गई है। 100 घरों का निरीक्षण किया गया है। दैवीय आपदा में जो भी राहत धनराशि देय होगी उसे पीड़ितों को जल्द ही दिया जाएगा।

गौरतलब हो कि पहुज नदी के बढ़े जलस्तर से ग्राम सलैया बुजुर्ग सहित ग्राम मऊ, भरतपुर, ऊंचा गांव, डाबर आदि कई गांवों में पानी घुस आया था। जिस कारण वहां कई गरीबों के कच्चे मकान ढह गए थे। किसानों के साथ भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने भी प्रशासन से सर्वे कराने एवं आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने की मांग की थी।

Posted By: Jagran