संवाद सहयोगी, कालपी : कभी दिन एवं रात में रौनक बिखेरने वाला नगर का नुमाइश ग्राउंड इस समय अतिक्रमण का शिकार हो चुका है। वहीं कूड़े करकट के ढेर भी इस मैदान मे लगे हैं जिससे इसकी रौनक खत्म होती जा रही है।नगर का नुमाइश ग्राउंड में हर साल पूरे 1 महीने तक कालपी विकास प्रदर्शनी एवं मेले का आयोजन मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर कराया जाता था। नगर सेठ मुन्नालाल गुप्ता के द्वारा आयोजित होने वाली प्रदर्शनी में दूरदराज के कलाकार नौटंकी, खेल, तमाशा, झूले के माध्यम से जनता को मंत्रमुग्ध किया करते थे। रात दिन पूरा मैदान रोशनी तथा सजावट में गुलजार रहता था। लेकिन समय के साथ ही प्रदर्शनी ग्राउंड में ग्रहण लगना शुरू हो गया। पहले समाज कल्याण विभाग ने प्रदर्शनी ग्राउंड में गृह उद्योगों को स्थापित करने के लिए मुफ्त में भूखंड आवंटित करा दिये गये। दिलचस्प बात यह रही कि भूखंडों में उद्योग को स्थापित नहीं हुये लेकिन नियम विरुद्ध दुकानों तथा मार्केट का निर्माण जरूर करा लिया गया। अब तो यहां मकान भी बन गये हैं। प्रदर्शनी ग्राउंड व्यवसाय क्षेत्र बन गया इतना ही नहीं कालपी बाजार का तमाम कूड़ा करकट भी प्रदर्शनी ग्राउंड में फेंका जाने लगा। जल निकासी की व्यवस्था न होने के कारण मैदान में गंदे पानी का जमाव इकट्ठा हो गया। सुरजीत सिंह चौहान, ब्रजेश सिंह, कपिल मिश्रा, अतुल ने बताया कि गंदगी व दुर्गंध के कारण हम लोगों के परिवारों के लिए रहना मुश्किल हो रहा है। उन्होंने गंदगी को साफ करने तथा मैदान से कीचड़ करकट हटवाने की मांग उठाई।