संवाद सहयोगी, कालपी : नगर में अधूरे पडे हाईवे पर सर्विस लेन व ओवर ब्रिज निर्माण मे बाधा बने धार्मिक स्थलों को प्रशासन ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शनिवार को हटवा दिया था। रविवार को मलबे को ट्रकों में भरकर वहां से हटवाने का काम बेहद तेजी से किया गया। दूसरे दिन सील किया गया हाईवे आवागमन के लिए खोल दिया गया है। सुरक्षा के ²ष्टिकोण से नगर मे ढहाए गए धार्मिक स्थलों व नगर के चिन्हित स्थानों पर फोर्स तैनात रहा। दोपहर के वक्त डीएम व एसपी निरीक्षण के लिए पहुंचे।

शनिवार को नगर की गंभीर समस्या बन चुकी अधूरे हाईवे पर सर्विस लेन व ओवरब्रिज निर्माण को लेकर आपरेशन सहयोग के तहत अभेद सुरक्षा व्यवस्था के बीच दुर्गा मंदिर, तकी मस्जिद, शिव मंदिर, आर्य कन्या स्कूल के पीछे मजार व खानकाह के तय हिस्से को जेसीबी व पोकलैंड मशीनों से ढहा दिया था। सफलतापूर्वक व शांतिपूर्ण ढंग से चले आपरेशन सहयोग में धार्मिक स्थलों को ढहाने के बाद देर रात तक हाईवे प्राधिकरण की निर्माण इकाई के कर्मचारी मलबा साफ करने में लगे रहे। सोमवार की सुबह तक लगभग पूरा मलबा हटा दिया गया। सुबह से ही सर्विस लेन बनाने के रास्ते मे पड़े मलबे को हटाने के लिए हाईवे प्राधिकरण की टीम लगी रही। एडीएम व एएसपी रहे भ्रमण पर

एडीएम प्रमिल कुमार ¨सह व एएसपी सुरेन्द्रनाथ तिवारी दूसरे दिन भी नगर में भ्रमण करते रहे। वहीं दुर्गा मंदिर के समीप एसडीएम सुनील शुक्ला व सीओ सुबोध गौतम अपनी नजरें जमाए रहे। सौहार्द के माहौल को कोई बिगाड़ने की कोशिश न करे इसके लिए सोशल मीडिया पर भी निगाह रखी जा रही थी। खानकाह शरीफ पहुंचे डीएम व एसपी

दोपहर करीब तीन बजे के आसपास डीएम डा. मन्नान अख्तर और एसपी डा. अरविन्द चतुर्वेदी खानकाह शरीफ पहुंचे और दरगाह में जाकर हाजिरी दी। मजार पर फूल चढ़ाए बाद में निरीक्षण करते हुए दुर्गा मंदिर पहुंचे। मंदिर में भी पुष्प अर्पित किए तथा सभी धार्मिक स्थलों को देखने के बाद डीएम, एसपी कोतवाली पहुंचे और एडीएम व एएसपी से स्थिति की जानकारी ली। सुरक्षा के मद्देनजर धार्मिक स्थलों पर लगा फोर्स

धार्मिक स्थलों को आपरेशन सहयोग में ढहाने के बाद सुरक्षा के मद्देनजर प्रशासन ने दुर्गा मंदिर, तकी मस्जिद व खानकाह शरीफ के आसपास शनिवार की भांति पुलिस, पीएसी व आरएएफ बल मुस्तैदी से तैनात रहा। रात में भी पुलिस बल तैनात रहा। वहीं नगर के फुलपावर चौराहे, टरननगंज, आलमपुर व सदर बाजार सहित दर्जनभर से अधिक स्थानों पर फोर्स मुस्तैदी के साथ लगा रहा। उधर जोल्हूपुर मोड़ पर भी पुलिस बल तैनात रहा और हर आने जाने वालों पर नजरें जमाए रहा। यातायात के लिए खुला हाईवे

धार्मिक स्थलों को ढहाने के लिए प्रशासन ने शनिवार को जोल्हूपुर मोड़ से कालपी तक हाईवे सील कर दिया था। जिसे रविवार की सुबह यातायात के लिए खोल दिया गया। जिससे सुचारू रूप से यातायात बहाल हो गया और लोगो को परेशान नहीं होना पड़ा। दुर्गा मंदिर ध्वस्त होने के बाद हुई आरती

दुर्गा मंदिर ढहाने के बाद प्रशासन ने मां दुर्गा की मूर्ति को बिल्कुल सुरक्षित बचा लिया है। शनिवार की देर शाम पुजारी राजेन्द्र द्विवेदी व कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं ने देवी मां की आरती कराई। पुजारी ने सुबह भी मंदिर में आरती की और महिलाएं व पुरुष पूजा अर्चना के लिए मंदिर पहुंचे।

Posted By: Jagran